साड़ी में खुद को फिट और सुंदर दिखने के लिए ब्लाउज खरीदते वक्त इन बातों का रखें ध्यान

साड़ी पहने नारी देश की संस्कृति और सभ्यता में चार चांद लगा देती है, भले ही महिला जीन्स-टॉप, स्कर्ट कोई भी कपड़े पहन लें, लेकिन साड़ी पहने महिला भीड़ में सबका ध्यान आकर्षित कर लेती है. अक्सर लड़कियां अपने मोटापे की वजह से साड़ी में खुद को फिट और सुंदर महसूस नहीं कर पाती हैं, इसके पीछे आपके ब्लाउज का चुनाव है. जी हां…ब्लाउज किसी भी साड़ी को सुंदर बना सकते हैं तब जब आप ब्लाउज खरीदते वक्त इन बातों का ध्यान रखेंगी.

 

जिन महिलाओं का फीगर स्लिम-ट्रीम है उन्हें तो साड़ी पहनने में कोई दिक्कत नही ंहोती है लेकिन जिन महिलाओं का फीगर प्लस साइज है उन्हें साड़ी को कमर से लेकर हैवी बाजू तक को कवर करने में काफी मेहनत करनी पड़ती है. साड़ी में उनका मोटापा साफ-साफ दिखाई देने लगता है. ऐसी महिलाएं साड़ी के स्टालिश पल्लू से अपनी कमर को तो कवर कर लेती हैं लेकिन हैवी बाजूओं को नहीं छिपा पाती हैं. ऐसी समस्या में आपको ब्लाउज के लिए लाइटवेट फ्रैबिक खरीदना चाहिए.

सही फ्रैबिक का चुनाव

सिल्क, रेयॉन, कॉटन और शिफॉन जैसे फ्रैबिक हैवी बाजुओं को कवर करने के लिए परफेक्ट ऑप्शन है. वहीं वेलवेट, वुलेन फ्रैबिक का इस्तेमाल बिल्कुल ना करें. साथ ही हैवी ब्लाउज, यानि जिनके हाथों पर ज्यादा कड़ाई, बुनाई हो उन ब्लाउज को नजरअंदाज करें, इसके बजाये आप ऐसा ब्लाउज लें जिसके गले पर हैवी डिजाइन हो ताकि लोगों का ध्यान आपके गले पर जाये.

एल्बो लेंथ का चुनाव-

मोटापे में स्लीव के लेंथ पर भी जरूर ध्यान दें. हमेशा एल्बो लेंथ या क्वाटर स्लीव वाले ब्लाउज़ बनवाएं. स्लीवलेस या फुल स्लीव ना पहनें. इससे आपके हाथ और ज्यादा हैवी लगेंगे. इतना ही नहीं, बटरफ्लाई या केप स्लीव डिज़ाइन भी ना सिलवाएं इसमें भी आप कम्फर्टेबल और कॉन्फिडेंट नहीं रहेंगी.

डार्क रंग का चुनाव-

मोटे लोगों को ब्लाउज हमेशा डार्क रंग के खरीदने चाहिए, साथ ही ब्लाउज को ज्यादा टाइट नहीं सिलवाना चाहिए, इससे आपको बाजूओं का मोटापा साफ-साफ दिखाई देगा. इसके अलावा, आप कभी भी हॉरिज़न्टल प्रिंट्स वाले ब्लाउज़ ना सिलवाएं। हमेशा कम और वर्टिकल प्रिंट्स चुनें.

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper