सामने आई अभिनंदन की बॉडी टेस्ट की रिपोर्ट जाने ,क्या उनके शरीर में लगायी गयी है चिप

लखनऊ: विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान दुश्मनों की धरती से वापस अपने वतन तो आ गये है लेकिन अभी वो अपने घर नहीं पहुंचे और ना ही अभी वो पहुंचेंगे जब तक उनकी सारी जांचे पूरी नहीं हो जाती हैं. दुश्मन के धरती से आये युद्धबंदी को डीब्रीफिंग प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है, जो थोड़ा कष्टदायक तो होता है लेकिन युद्धबंदी और वतन की रक्षा के लिए ये जांचे करनी पड़ती हैं.अभिनंदन को भी इन जांचों के लिए सेना के आरआर अस्पताल में भेजा गया. जहां उनकी जांचों की रिपोर्ट आने तक उन्हें वहीं रहना पड़ा. हॉस्पिटल से हरी झंडी मिलने के बाद ही उन्हें आईएएफ की मेस में भेजा जाएगा.

अभिनंदन को एक महिने तक आईएएफ के मेस में रहना पड़ेगा. जहां उसने कड़ी पूछताछ होगी. इस बीच उनको परिजनों से कुछ ही देरी के लिए मिलवाया जायेगा. जब तक अभिनंदन पाकिस्तान में ठहरे हर एक छोटे से छोटे पल की खबर अधिकारियों को नहीं बता देंगे. तब तक उन्हें वहां से नहीं जाने दिया जायेगा. हालांकि विंग कमांडर अभिनंदन के एमआरआई स्कैन हो चुके हैं जिसमें किसी तरह की चिप नहीं निकली. उनका स्कैन होने के बाद ही उन्हें परिजनों से मिलने की अनुमति दी गई थी.

क्या होती है डीब्रीफिंग प्रक्रिया

डीब्रीफिंग प्रक्रिया में शारीरिक जांच, मनोवैज्ञानिक परीक्षण और चिकित्सकीय तथा वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा पूछताछ की जाती है. जैसा कि हम आपको पहले भी ऊपर बता चुके हैं कि इस प्रक्रिया का मतलब देश के जवान पर शक करना नहीं होता है बल्कि दुश्मनों ने किसी तरह की चालाकी ना की हो, उसकी जांच करवाना बहुत जरूरी होता है. अभिनंदन के लिए तुरंत इस डीब्रीफिंग प्रक्रिया को फेस करना थोड़ा मुश्किल होगा लेकिन देश के लिए बहुत जरूरी है.

युद्धबंदियों से जुड़े अभिनंदन पर भारतीय प्रोटोकॉल लागू हो जाते हैं. इस डीब्रीफिंग प्रक्रिया में वायुसेना अधिकारी इंटेलिजेन्स ब्यूरो(आईबी) तथा रिसर्च और एनालिसिस विंग(रॉ) के अधिकारी शामिल होते हैं, जो अभिनंदन से दुश्मन देश के बर्ताव के बारे में पूछताछ करते हैं. उनकी बॉडी की स्कैनिंग से लेकर साइकोलॉजिकल टेस्ट तक हर एक जांच होती है. साथ ही अगर इस जांच में युद्धबंदी के साथ दुश्मनों देशों द्वारा की कोई बर्बरता या क्रूरता का पता चलता है तो सैन्य आचार संहिता के मुताबिक इस मामले को अंतरराष्ट्रीय फोरम पर उठाया जाएगा.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper