सामाजिक महापरिवर्तन का है महागठबंधन: मायावती

लखनऊ: अंतिम चरण का चुनाव प्रचार थमने से एक दिन पहले बृहस्पतिवार को वाराणसी के संत रविदास मंदिर के समीप सीरगोवर्धनपुर में महागठबंधन की रैली में बसपा सुप्रीमो ने कांग्रेस और बीजेपी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने आजादी के बाद से देश व विभिन्न राज्यों में बनी कांग्रेस के निकम्मेपन के कारण ही आज यह दिन आने की बात कहीं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को फर्जी पिछड़ा बताया साथ ही यह भी कहा कि जो व्यक्ति अपनी पत्नी का सम्मान नहीं कर सका वो दूसरे बहू- बेटी का सम्मान क्या करेगा। बसपा सुप्रीमो ने गठबंधन को महामिलावटी कहे जाने पर भी तंज कसते हुए कहा कि यह सामाजिक महापरिवर्तन का गठबंधन हैं। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने मां गंगा से वायदाखिलाफी की है, अब गंगा मईया बीजेपी को सजा देंगी।

वहीं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि सात दिन बाद देश को नया प्रधानमंत्री मिलेगा। उन्होंने मोदी को देश का नहीं बल्कि पूंजीपतियों का प्रधानमंत्री बताया। राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह ने कहा कि पीएम का सीना भले ही 56 इंच का हो, लेकिन उनका दिल एक इंच का भी नहीं है। बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा कि आजादी के बाद देश में कांग्रेस पार्टी की सरकार बनी, इसके बाद कई राज्यों में भी कांग्रेस का शासन रहा, लेकिन कांग्रेस ने न तो गरीबी दूर की न तो बेरोजगारी और न ही किसान खुशहाल हो पायें, जनता की जरूरतों को पूरा करने में भी कांग्रेस नाकाम रही। कांग्रेस शासनकाल में दलितों, आदिवासियों, अन्य पिछड़े वर्ग के लोगों को भी उनका अधिकार नहीं मिला। समाज के दबे- कुचले, उपेक्षितों को जरा भी सरकार का लाभ नहीं मिला।

उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस पार्टी ने ईमानदारी और निष्ठा से काम किया होता तो बसपा और सपा की जरूरत ही नहीं होती। भाजपा को भी कांग्रेस की गलतियों का फायदा मिला और भाजपा ने सरकार बनाकर शोषण, उत्पीड़न शुरू कर दिया। बसपा की बनी सरकार तो देंगे गरीबों को नौकरी : बसपा सुप्रीमो ने कहा कि भाजपा सरकार ने 2014 में जो वायदे किये थे, उसे पूरा नहीं कर सकें। वाराणसी को विकसित करने, साफ- सफाई, रोजी- रोजगार की समस्या दूर करने में केंद्र सरकार विफल रही। गंगा मईया की सफाई भी नहीं हुई। लाखों- करोड़ों बहाने के बाद भी गंगा निर्मल और शुद्ध नहीं हुई। कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में गरीबों को पल्रोभन दिया है, लेकिन गरीबी का समाधान नहीं निकाल सकें। उन्होंने कहा कि राजनीतिक पार्टी चुनावी घोषणा पत्र जारी करती है, लेकिन चुनाव बाद उसे पूरा नहीं करती। पीएम ने दिया बनारस को धोखा- अखिलेश : सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि सात दिन बचे हैं, देश को नया प्रधानमंत्री मिलने में। प्रधानमंत्री मोदी ने बनारस के विकास का ढिंढ़ोरा पीटा लेकिन यहां के लोग जानते हैं कि क्या काम हुआ।

अंतिम चरण: प्रचार में भाजपा ने झोंकीं ताकत

उन्होंने कहा कि पीएम ने यहां की जनता को धोखा दिया है। गंगा मईया से किया गया वायदा भी नहीं पूरा किया गया। गलियां साफ नहीं हुई, पीने का साफ पानी लोगों को नहीं मिल रहा है। उन्होंने कहा कि जिसकी नीयत साफ न हो वो कभी गंगा को साफ नहीं कर सकता। बिजली के तारों को अंडरग्राउंड करने का प्रचार किया जा रहा है, लेकिन अभी भी तार दिख रहे हैं।यूपी ही नहीं बंगाल से भी घबराये : सपा सुप्रीमो ने कहा कि गठबंधन की ताकत से भाजपा के लोग घबरा गये हैं। इसे जाति का गठबंधन कहा जा रहा है, लेकिन यह गठबंधन गरीबों का हैं, दिलों का हैं। भाजपा सरकार गठबंधन से सिर्फ यूपी ही नहीं बल्कि बंगाल से भी घबरा गयी है। पहले भी प्रचारक थे मोदी और अब भी-अजित : राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह ने कहा कि भाजपा ने देश की संस्थाओं की स्वतंत्रता खत्म कर दी है।

पीएम मोदी प्रचारक थे और अब भी हैं। सपनों को धरती पर उतारने की कोई योजना पीएम के पास नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की छाती भले ही 56 इंच को हो, लेकिन दिल एक इंच का भी नहीं है। दलित, किसान, अल्पसंख्यक, पिछड़ा वर्ग के लोगों के लिए पीएम के दिल में कोईजगह नहीं है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper