सावधान, पैरों को क्रॉस करके बैठने की ये आदत कही बन ना जाएं आपके लिए जानलेवा

अक्सर लोग ऑफिस में काम करते टाइम या घर में tv देखते टाइम पैरों को क्रॉस करके बैठते हैं। सभी लोगों को पैर के ऊपर पैर रखना बहुत ही ज़्यादा आरामदायक लगता है। वह ऐसा करने से बहुत ही सुकून महसूस करते हैं, परन्तु आपकी ये आदत आपकी स्वास्थ पर बहुत भारी पड़ सकती है। इससे आप पैरालाइज्ड तक हो सकते है। दोस्तों आज हम आपको इससे होने वाले खतरनाक नुकसानों के बारे में बताएंगे।

पैरों को क्रॉस करके बैठने से blood pressure हाई हो जाता है। ऐसे बैठने से खून पैरों से होकर के छाती की तरफ बढ़ने लगता है। और फिर दिल को खून वापस भेजने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ती है। आर्थोपेडिक फिजिकल थेरेपिस्ट के अनुसार पैर पर पैर चढ़ा कर बैठने की वजह से कमर और गर्दन में भी दर्द हो सकता है। क्योंकि ऐसे बैठने से रीढ़ की हड्डी की नसें दब जाती है व डिसबैलेंस हो जाती है। अधिक समय तक ऐसी स्थिति में बैठने की वजह से स्पाडेलाइजेज की भी परेशानी भी हो सकती है।

काफी देर तक क्रॉस में पैर करके बैठने से गर्दन पर भी अधिक जोर पड़ता है। क्योंकि गर्दन की नसे पीठ से जुड़ी हुई होती है। पैरों के इस तरह से मोड़ने पर नसें भी दब जाती है। जिससे गर्दन पर प्रेशर बनने लगता है। पैरों को इस तरह करके बैठने से पेरेनियल नामक नर्व के दबने से Paralyzed होने का खतरा भी बना रहता है। दरअसल पेरेनियल एक तरह की नस होती है जो कि घुटनों के ठीक नीचे होती है। इस पर ज़्यादा दबाव पड़ने से पैरों में अकड़न, झनझनाहट और मोच भी आ सकती है।

पैरो को क्रॉस करके बैठने से पैरों की नसें उभरने लगती हैं। जिससे वेरीकोज वेन्स की समस्या होने लगती है। इसे स्पाइडर वेन्स भी कहते है। इन नसों पर दबाव पड़ने की वजह से पैरों में सूजन आने लगती है और बहुत ही तेज दर्द होता है। एक पैर पर दूसरी पैर रखकर बैठने की वजह से जांघों की मांसपेशियों पर काफी जोर पड़ता है। अधिक देर तक पैर मोड़े रहने की वजह से जोड़ों में दर्द होने लगता है। इससे हड्डियां खिसकने व चिटकने जैसी गंभीर समस्याएं भी हो सकती है।

काफी देर तक पैरों को एक पर एक रखकर बैठने की वजह से पैरों और कमर की मांसपेशियों में खिंचाव आ जाता है। अगर समय रहते इस पर ध्यान ना दिया गया तो ये गंभीर इंजरी भी हो सकती है। इससे चलने-फिरने और उठने-बैठने में दिक्कत आ सकती हैं। Pregnancy में महिलाओं को इस तरह बिल्कुल भी नहीं बैठना चाहिए। इससे पेट पर काफी जोर पडता है। जिससे बच्चे के मूवमेंट में काफी दिक्कत आती है। अगर ये आदत लंबे टाइम तक रहें तो डिलीवरी में भी काफी परेशानी आ सकती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
loading...
E-Paper