‘सिंगल यूज प्लास्टिक’ को अलविदा कहें : प्रधानमंत्री

ग्रेटर नोएडा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां सोमवार को संयुक्त राष्ट्र के एक कार्यक्रम में वैश्विक स्तर पर ‘सिंगल-यूज प्लास्टिक’ का प्रयोग न करने का आह्वान किया। मोदी ने तालियों की गड़गड़ाहट के बीच कहा, “मुझे लगता है कि दुनिया का सिंगल यूज प्लास्टिक को अलविदा कहने का वक्त आ गया है।”

प्रधानमंत्री उत्तरप्रदेश के ग्रेटर नोएडा में आयोजित मरुस्थलीकरण की चुनौती से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (यूएनसीसीडी) के तहत 14वें कॉन्फ्रेंस ऑफ पार्टीज (कॉप-14) को संबोधित कर रहे थे। वन भूमि की सुरक्षा के लिए भारत की प्रतिबद्धता के बारे में बात करते हुए, मोदी ने वैश्विक नेताओं को याद दिलाया कि भारत ने अकेले 2015 और 2017 के बीच अपने वन क्षेत्र को 8 लाख हेक्टेयर तक बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि भारत में विकास कार्यो की वजह से काटे जा रहे पेड़ों की भरपाई पौधारोपण करके की जाती है।

प्रधानमंत्री ने सीओपी-14 में मौजूद वैश्विक नेताओं को बताया कि कैसे भारत के पास किसानों को भूमि के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देने के लिए ‘भूमि कार्ड(सॉयल कार्ड्स)’ हैं।प्रधानमंत्री ने स्वच्छता और जल संरक्षण प्रयासों के लिए स्वच्छ भारत मिशन को रेखांकित किया। मोदी ने प्रतिबद्धता जताते हुए कहा कि भारत 2019 से 2030 के बीच अपने भूमि आवरण को बढ़ाएगा। प्रधानमंत्री ने इसके अलावा जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए ‘ग्लोबल वॉटर एक्शन एजेंडा’ के लिए भी अपील की।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper