सिद्धू ने मोदी सरकार पर किया तंज, हर गली में मोबाइल चलाता मिला बेरोजगार

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने बीजेपी सरकार पर करारा हमला किया । सिद्धू ने बेरोजगारी मुद्दे को लेकर मीडिया के सामने कई आधिकारिक कंपनियों के आंकड़ों को पेश करते हुए दावा किया कि मोदी सरकार में नौवजवानों को बेरोजगारी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने बेरोजगारी के अलावा वर्ल्ड बैंक से लिए गए कर्ज के बारे में भी विस्तार से बताया। सिद्धू ने टवीट किया जिसमें उन्होंने बीजेपी पर तंज कसते हुए लिखा, सत्यमेव जयते! एआईसीसी प्रेस ब्रीफिंग के दौरान रोजगार खत्म होने पर चर्चा हुई। ना राम मिला, ना रोज़गार मिला, बस हर गली में मोबाइल चलाता बेरोज़गार मिला…”

सिद्धू ने बताया,190 देशों में भारत हंगर इंडेक्स (भुखमरी के आंकड़ों) में भारत 103वें स्थान पर है। वर्ल्ड बैंक ने विकासशील टैग देश से वापस ले लिया और अविकसित (अंडरडेवलपिंग) का टैग लगाया है। भारतवर्ष ने 1947 से लेकर 2014 तक, यानी 67 साल में देश के ऊपर विश्व बैंक से जो कर्जा 50 लाख करोड़ का हुआ, मोदी जी ने 4 साल में उस 82 लाख करोड़ कर दिया। इस आंकड़ों को प्रेस के सामने रखने के बाद उन्होंने पीएम मोदी को चेतावनी दी। उन्होंने कहा, ”यह देशभक्ति है तुम्हारी, आओ ना मोदी साहब बैठते हैं कहीं, चाय पीते हैं और चर्चा करते हैं।

जॉब लॉस दोनों सेक्टर में हुआ है। प्राइवेट सेक्टर में भी और गवर्मेंट सेक्टर में भी हुआ है। नोटबंदी होने की वजह से 50 लाख जॉब गए। एनएसएसओ कहता है कि एक साल में एक करोड़ 10 लाख नौकरियां गईं। 45 साल में यह सबसे अधिक है। अभी भी 25 लाख नौकरियां पड़ी हैं। यूपीएससी की रिक्रूटमेंट में 40 प्रतिशत की कमी आई हैं। इंटरनेशनल लेबर ऑर्गेनाइजेशन (आईएलओ) के मुताबिक सिर्फ 8.23 लाख नौकरियां ही मिल पाई हैं और आपने कहा था कि 5 साल में 10 करोड़ नौकरियां मिलेंगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper