सीएम योगी ने चुनाव आयोग के बैन का तोड़ ढूढ़ निकाला

दिल्ली ब्यूरो: अपने काम से ज्यादा बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने चुनाव आयोग के बैन का तोड़ ढूंढ निकाला है। बता दें कि चुनाव आयोग ने प्रचार के दौरान अभद्र भाषा का प्रयोग करने के आरोप में योगी आदित्यनाथ के चुनाव प्रचार करने पर 72 घंटे की रोक लगा दी है। लेकिन यूपी के सीएम योगी यों ही नहीं मानने वाले उन्होंने चुनाव आयोग के इस बैन का भी तोड़ ढूंढ निकाला है। जिसके लिए सीएम योगी मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। योगी आदित्यनाथ लखनऊ के हनुमान सेतु मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। यही नहीं इसी मंदिर में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह भी पहुंचेंगे। बता दें कि राजनाथ सिंह को आज ही लखनऊ सीट से अपना नामांकन दाखिल करना है. ऐसे में योगी आदित्यनाथ उनके इस नामांकन कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पाएंगे।

जिसके लिए योगी ने मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ करने का रास्ता ढूंढ निकाला, क्योंकि चुनाव आयोग के प्रतिबंध के मुताबिक योगी आदित्यनाथ के मंदिर में जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं है। ऐसे में वह किसी भी मंदिर में जा सकते हैं। ऐसे में राजनाथ सिंह का इस मंदिर में पहुंचा ना भी योगी की नीति का हिस्सा माना जा रहा है। क्योंकि नामांकन से ठीक पहले राजनाथ सिंह उसी मंदिर में जाएंगे जहां योगी आदित्यनाथ आज हनुमान चालीसा का पाठ कर रहे होंगे।

बता दें कि आज ही बीजेपी के उम्मीदवार कौशल किशोर भी मोहनलालगंज संसदीय सीट से अपना नामांकन दाखिल करेंगे। बता दें कि चुनाव आयोग ने योगी आदित्यनाथ के अलावा बीएसपी सुप्रीमो मायावती पर भी चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दी है। चुनाव आयोग की ये रोक आज से शुरु हो गई है। अब मायावती 48घंटे और योगी आदित्यनाथ 72 घंटे तक चुनाव प्रचार नहीं कर पाएंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper