सीएम योगी ने विपक्षी दलों पर साधा निशाना, बोले- देश में फतवों की राजनीति अब नहीं चलेगी

नई दिल्ली: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में फतवों की राजनीति अब नहीं चलेगी, और देश संविधान से चलेगा। मुख्यमंत्री लखनऊ कैंट विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए भाजपा उम्मीदवार सुरेश तिवारी के समर्थन में एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘देश फतवों से नहीं संविधान से चलेगा। भाजपा ने तीन तलाक जैसी कुप्रथा को सदैव के लिए प्रतिबंधित कर देश में राजनीति के मौलानाकरण को पूरी समाप्त कर दिया है।’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘कांग्रेस सहित उनके सहयोगी तथाकथित धर्मनिरपेक्ष राजनीतिक दलों ने हमेशा राष्ट्र की कीमत पर राजनीति की। राजनीति उनके लिए परिवारवाद, जातिवाद के आधार पर लोगों को बांटकर सत्ता हथियाने का साधन थी।’

उन्होंने कहा, ‘बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर के नाम पर राजनीति करने वाले लोग जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के मुद्दे पर खुद को अलग करते रहे। प्रधानमंत्री मोदी ने डॉ। आंबेडकर, श्याम प्रसाद मुखर्जी की भावना के अनुरूप जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त कर साफ कर दिया कि एक देश में दो निशान-दो विधान नहीं चलेंगे। अनुच्छेद 370 के कारण धरती का स्वर्ग जम्मू-कश्मीर आतंकवाद के नरक में बदल गया था।’

योगी ने कहा, ‘लखनऊ के लोग 24 अक्टूबर को दीपोत्सव मनाएं। 26 अक्टूबर को अयोध्या में दीपोत्सव होगा और 24 अक्टूबर को मर्यादा पुरुषोत्तम राम के छोटे भाई भगवान लक्ष्मण के नाम पर बसी लक्ष्मणनगरी में भी यह आयोजन कैंट विधानसभा सीट पर भाजपा की होने वाली भारी मतों से जीत के उपलक्ष्य में मनाई जाए।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper