सीएम शिवराज ने ‘चलो पंचायत अभियान’ में दी विकास की बड़ी सौगातें

Published: 15/05/2018 4:32 PM

ग्वालियर: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को देर शाम ग्वालियर जिले के ग्राम बरेठा में ‘चलो पंचायत अभियान’ के तहत जमी चौपाल में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने विकास की अनेक बड़ी-बड़ी सौगातें क्षेत्रवासियों को प्रदान की। इस दौरान उन्होंने कहा कि एक नया जमाना, नई रोशनी और नई दिशा प्रदेश को दी जा रही है। प्रदेश सरकार द्वारा इस भावना के साथ किए जा रहे प्रयास जमीनी हकीकत बन रहे हैं। मध्यप्रदेश में पिछले लगभग 14 साल की अवधि में सिंचाई का रकबा साढ़े 7 लाख हैक्टेयर से बढ़कर 40 लाख हैक्टेयर हो गया है। पहले जहां मात्र 2900 मेगावॉट बिजली का उत्पादन होता था, वह अब बढ़कर 18 हजार 800 मेगावाट हो गया है।

मुख्यनंत्री ने बरेठा सहित समीपवर्ती ग्राम पंचायतों को विकास की बड़ी-बड़ी सौगातें देने की घोषणा की। साथ ही 4 करोड़ 38 लाख की लागत से बनने जा रही राष्ट्रीय राजमार्ग-92 बरेठा से बहादुरपुर-पारसेन तक की 7 किलोमीटर लम्बी सड़क का भूमि पूजन भी किया। उन्होंने सरकार की विभिन्न योजनाओं से लाभान्वित कराए गए 12 से अधिक हितग्राहियों को सम्मानित भी किया। उन्होंने स्पेशल-11 में शामिल युवाओं को भी सम्मानित किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने हमेशा इस भाव के साथ काम किया है कि मुख्यमंत्री का पद सत्ता के सिंघासन पर बैठने के लिए नहीं अपितु प्रदेश के विकास एवं जनता के कल्याण के लिए है। पिछले लगभग 14 साल के दौरान मध्यप्रदेश में विकास के नए आयाम स्थापित हुए हैं। अकेले ग्वालियर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में ही लगभग 1450 करोड़ लागत के काम चल रहे हैं, जिसमें करीबन 400 करोड़ रुपये की सड़के शामिल हैं। प्रदेश सरकार वर्ष-2023 तक हर जरूरतमंद को पक्का घर बनाकर देगी। साथ ही असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों सहित आर्थिक रूप से कमजोर सभी परिवारों को मात्र 200 रुपये प्रतिमाह पर घरेलू बिजली देगी।

ग्रामीणों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री असंगठित श्रमिक कल्याण योजना का दायरा सरकार ने बढ़ा दिया है। अब ढ़ाई एकड़ जमीन तक के सीमांत कृषक भी इस योजना में शामिल किए गए हैं। अब यह योजना मुख्यमंत्री जन कल्याण योजना के नाम से जानी जाएगी। इस योजना का फायदा सभी को मिलेगा। जात, पात, वर्ग का इसमें कोई बंधन नहीं होगा। खुशी की बात है कि इस साल सरकारी स्कूलों के हाईस्कूल एवं हायरसेकेण्ड्री के परीक्षा परिणाम प्राइवेट स्कूलों से बेहतर रहे हैं। यह प्रदेश सरकार की अच्छी शिक्षा नीति का नतीजा है।

प्रदेश सरकार 70 प्रतिशत से ज्यादा अंक लाने वाले विद्यार्थियों की फीस तो भरेगी ही साथ ही, छोटे किसान एवं आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के उन बच्चों की फीस भी सरकार भरेगी, जिनके 70 प्रतिशत से कम अंक आए हैं। मध्यप्रदेश में किसी भी गरीब का बच्चा पढ़ाई से वंचित नहीं रहेगा। उन्होंने दौहराया कि मेडिकल, तकनीक एवं प्रबंधन संस्थानों में राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता के माध्यम से प्रवेश लेने वाले बच्चों की आठ लाख तक की फीस मध्यप्रदेश सरकार भरेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने पिछली साल समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने वाले किसानों के खाते में 200 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से धनराशि पहुंचाई है। जिन किसानों ने इस साल समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचा है, उनके खातों में 265 रुपये प्रति क्विंटल के मान से राशि पहुंचाई जाएगी। प्रदेश सरकार युवाओं को बड़े पैमाने पर रोजगार देने के लिए कटिबद्ध है। इस साल लगभग 61 हजार शिक्षकों की भर्ती की जाएगी, जिसमें 50 प्रतिशत बेटियों की भर्ती की जाएगी। इसी तरह पुलिस भर्ती में कुल पदों में से 33 प्रतिशत पद बेटियों से भरे जाएंगे।

सरकारी नौकरी देने के साथ-साथ युवाओं को कौशल उन्नयन के जरिए भी रोजगार मुहैया कराया जाएगा। मौजूदा साल में साढ़े 7 लाख युवाओं का कौशल उन्नयन किया जाएगा। उन्होंने इस अवसर पर चौपाल में मौजूद जन समूह से त्रिवाचा भराई कि हम सब मिलकर विकास में योगदान देंगे, बेटियों का सम्मान करेंगे, हर बच्चे को स्कूल भेजेंगे, कम से कम एक पेड़ लागएंगे। जन समूह ने दोनों हाथ उठाकर मुख्यमंत्री के सुर में सुर मिलाया।

कार्यक्रम में महेन्द्र सिंह यादव, वीरेन्द्र जैन, राजेश दुबे, मानसिंह राजपूत, कप्तान सिंह सहसारी, राजकुमार घुरैया, ममता बघेल व अरुणा किरार सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं बड़ी संख्या में क्षेत्रीय ग्रामीण मौजूद रहे। कार्यक्रम में संभाग आयुक्त बी एम शर्मा, पुलिस महानिरीक्षक अंशुमन यादव, कलेक्टर राहुल जैन व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ आशीष सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक भारत सिंह कुशवाह की विभिन्न मांगों को पूरा करते हुए घोषणा की कि बेहटा कैनाल से चंदुपुरा व बरेठा इत्यादि गांव के लिए नहर बनाई जाएगी। इस नहर के निर्माण पर लगभग 2 करोड़ 88 लाख का खर्चा अनुमानित है। इसी तरह इस क्षेत्र से गुजरने वाली सांख नदी पर तीन करोड़ की लागत से स्टॉप डैम बनाने की घोषणा की। साथ ही लगभग 50 लाख की लागत से बरेठा में मुख्यमंत्री पेयजल योजना के तहत नल-जल योजना स्थापित करने की घोषणा भी मुख्यमंत्री द्वारा की गई।

Placio

बहुप्रतीक्षित सड़क मार्ग का किया भूमिपूजन

मुख्यमंत्री ने बरेठा सहित समीपस्थ लगभग 12 गांवों को जोड़ने वाली बहुप्रतीक्षित सड़क का भूमि पूजन किया। इस सड़क का निर्माण प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत लगभग 4 करोड़ 38 लाख की लागत से होने जा रहा है। राष्ट्रीय राजमार्ग-92 बरेठा से शुरू होकर लगभग सात किलोमीटर लम्बाई में बहादुरपुर-पारसेन से जुड़ेगी। सड़क के निर्माण से बरेठा, लक्ष्मणगढ़, बहादुरपुर, गुठीना, सिहोली, सरसपुरा, फूलपुर व पारसेन सहित अन्य ग्रामीणों को वर्ष भर सुगम आवागमन की सुविधा मिलेगी।

अर्पित के दिल का ऑपरेशन सरकार के खर्चे पर होगा

जन्म से ही दिल में छेद होने से जीवन और मृत्यु से संघर्ष कर रहे डेढ़ वर्षीय बालक अर्पित के दिल का ऑपरेशन प्रदेश सरकार करायेगी। मुख्यमंत्री का बरेठा प्रवास इस बच्चे की जिंदगी में नई उम्मीदें लेकर आया। मुख्यमंत्री ने अर्पित के इलाज के लिए अस्पताल द्वारा दिए गए एस्टीमेट के मुताबिक डेढ़ लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की। अर्पित का ऑपरेशन भोपाल के एलबीएस अस्पताल में होगा। कलेक्टर राहुल जैन द्वारा अर्पित के इलाज के लिए मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना के तहत सहायता मंजूर की गई है।

इन हितग्राहियों का किया सम्मान

सरकार की विभिन्न योजनाओं से लाभान्वित कराए गए हितग्राहियों का मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर पुष्पाहारों से सम्मान किया। मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत कु. सपना, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हीरामनी व गोपाल, असंगठित पंजीयन कार्डधारी वीर सिंह, राजकुमार, रवि, बृजकिशोर व सुनीता, मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के तहत उदय सिंह व कस्तूरी, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत रीना, लाडली लक्ष्मी योजना के तहत अर्चना कुशवाह, उज्ज्वला योजना से रेनू को सम्मानित किया गया। इसी तरह बरेठा ग्राम पंचायत के सरपंच दिलीप आदिवासी, सचिव राकेश सिंह किरार व ग्राम रोजगार सहायक जोगेन्द्र सिंह गुर्जर को ग्राम स्वच्छता पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

बालाजी धाम में की पूजा-अर्चना और गौ एवं कन्या पूजन किया

मुख्यमंत्री ने बरेठा पहुंचने के बाद सबसे पहले यहां के प्रसिद्ध बालाजीधाम मंदिर में पूजा-अर्चना कर प्रदेश की खुशहाली की प्रार्थना की। इसके बाद कार्यक्रम स्थल पर गौ-पूजन एवं कन्या पूजन किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए आप कृपया हमारे Facebook Page को Like करें व Twitter पर Follow करें...
-----------------------------------------------------------------------------------
E-Paper