सीतापुर में डीजे बंद कराने को लेकर कांवडियों से विवाद, जमकर हुई पत्‍थरबाजी

सीतापुर: जिले के रामपुर क्षेत्र में सोमवार को कांवडि़यों और दूसरे समुदाय के बीच जमकर घमासान हुआ। शव की अंत्‍येष्टि के बीच डीजे की आवाज को बंद कराने के लिए कहने पर कांवडि़ये भिड़ गए। विवाद इतना बढ़ा कि दोनों पक्षों के बीच पत्‍थरबाजी होने लगी। मौके पर पुलिस बल को पहुंचकर मामला शांत कराना पड़ा। वहीं पत्‍थरबाजी और मारपीट में लगभग दर्जन भर लोग घायल हो गए।

यह है मामला
मामला रामपुर मथुरा थाना क्षेत्र का है यहां सोमवार दोपहर कांवड़िये गाजेबाजे के साथ जा रहे थे। कांवड़ियों का जत्था जैसे ही पंडित पुरवा के निकट पहुंचा। उसी दौरान दूसरे समुदाय के लोग शव की अंत्‍येष्टि कर रहे थे। उन्‍होंने कांवडियों से डीजे को बंद करने को कहा। जिस पर कांवडि़ये तैयार नहीं हुए और दोनों पक्षों के बीच बहस होने लगी। देखते ही देखते मामला इतना बढ़ा कि दोनों पक्षों के बीच पथराव होने लगा। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पहुंची और पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में लेकर विवाद शांत कराया। वहीं पत्‍थरबाजी और मारपीट में लगभग नौ से ज्‍यादा लोग घायल हो गए।

इस घटना को लेकर मंगलवार को रेउसा क्षेत्र के त्यागी महाराज पंडित पुरवा पहुंचे और धरने पर बैठ गए। उनके साथ सैकड़ों लोग मौजूद थे। सूचना पाते ही पुलिस प्रशासन के अधिकारी मौके पहुंचे और उन्हें समझाने का प्रयास करने लगे। समाचार लिखे जाने तक मनाने का दौर जारी था। इधर इस मामले को लेकर एसपी एलआर कुमार ने बताया कि पंडित पुरवा के निकट समुदाय विशेष के लोग शव की अंत्येष्टि कर रहे थे। उसी दौरान कावड़ियों का जत्था निकला। शव की अंत्येष्टि कर रहे लोगों ने डीजे बंद करने को कहा। इसी बात को लेकर विवाद हुआ। दोनों पक्षों पर केस दर्ज किया गया है और उपद्रवियों को हिरासत में लिया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper