सीबीआई में उठापटक के लिए भाजपा सरकार जिम्मेदार

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी प्रमुख व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि केन्द्रीय जांच ब्यूरो में मचे घमासान के लिए केन्द्र की भाजपा सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार की द्वेषपूर्ण, जातिवादी व सांप्रदायिकता पर आधारित नीतियों एवं कार्यकलापों ने प्रत्येक संवैधानिक संस्थाओं को संकट और तनाव में डाल दिया है। मायावती ने बुधवार को कहा कि देश की शीर्ष जांच एजेंसी सीबीआई में उठापटक सरकारी हस्तक्षेप के चलते हुई है।

यह गम्भीर चिन्ता की बात है। लोगों का सीबीआई जैसी संस्था से भरोसा डगमगा रहा है। उन्होंने कहा कि सीबीआई के मौजूदा संकट के लिए अधिकारियों से ज्यादा केंद्र सरकार जिम्मेदार है। बसपा प्रमुख ने आरोप लगाया कि भाजपा की सरकारों ने पिछले साढ़े चार सालों के दौरान अपने राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाने के लिए सीबीआई जैसी उच्च संस्था का दुरुपयोग किया है। उन्होंने उच्चतम न्यायालय से इस संस्था की विश्वसनीयता को बहाल करने के लिए मौजूदा विवाद का संज्ञान लेने का अनुरोध किया है।

मायावती ने कहा कि सीबीआई में विभिन्न प्रकार के हस्तक्षेपों के कारण पहले भी बहुत गलत व अनर्थ होता रहा है पर भाजपा के शासन में सीबीआई में कुछ ज्यादा ही हस्तक्षेप बढ़ गया, जिसके कारण सीबीआई में उठापटक शुरू हुई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper