सुप्रीम कोर्ट का CAA पर रोक लगाने से इनकार, 4 हफ्ते में मांगा सरकार से जबाव

नई दिल्ली। सीएए, एनपीआर-एनआरसी को लेकर देशभर में विरोध किया जा रहा है। इसी बीच सीएए-एनआरसी को लेकर सुप्रीम कोर्ट में 144 याचिकाओं लगाई गई थी, जिस पर बुधवार को सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सीएए पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है।

कायवाई की शुरुआत में अटॉर्नी जनरल ने कोर्ट को बताया कि उन्हें अभी तक 144 में से 60 याचिकाओं की ही कॉपी मिली है। इस पर याचिकाकर्ताओं के वकील कपिल सिब्बल की ओर से कहा गया कि मामले को संविधान पीठ में भेजने पर विचार करना चाहिए, इसके साथ ही सिब्बल ने एनपीआर पर भी सवाल उठाए।

कपिल सिब्बल ने मामले पर सुनवाई को तीन महीने के लिए टालने की बात रखी। सुनवाई के दौरान सीजेआई एस. ए. बोबड़े ने कहा कि हम अभी कोई भी आदेश जारी नहीं कर सकते हैं, क्योंकि काफी याचिकाओं को सुनना बाकी है। ऐसे में सभी याचिकाओं को सुनना जरूरी है। साथ ही सीजेआई ने यह भी कहा कि याचिकाओं की सभी कापी केंद्र सरकार को दी जाए।

चीफ जस्टिस ने कहा है कि वह नई याचिकाओं पर रोक नहीं लगा सकते हैं, इसके अलावा हर केस के लिए एक वकील को ही मौका मिलेगा। याचिकाओं पर जवाब देने के लिए केंद्र को 4 हफ्ते का वक्त मिला है और अब पांचवें हफ्ते में सुनवाई होगी। वहीं दूसरी ओर असम से जुड़ी याचिकाओं पर केंद्र सरकार को दो हफ्ते में जवाब देना होगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper