सुबह उठते ही नहीं देखनी चाहिए ये 4 चीजें वरना पूरा दिन हो जाता है खराब, दिनभर मिलती है बुरी खबर

लखनऊ: हर सुबह व्यक्ति के लिए एक नया सवेरा लेकर आती है। हर सुबह व्यक्ति में नई उमंग और नया जोश रहता है। शास्त्रों में भी कहा गया है कि अगर दिन की शुरुआत सही रहती है तो पूरा दिन अच्छा बीतता है। और दिन की शुरुआत में ही कुछ अशुभ चीजों के दर्शन हो जाते है तो पूरा दिन खराब हो जाता है।

दोस्तों आज हम आपको इस पोस्ट में बताएंगे की सुबह उठकर भूलकर भी कौन से चार चीजें नहीं देखनी चाहिए, जिनसे बहुत बड़ा नुकसान होता है। कुछ लोगो खासकर महिलाओं की आदत होती है कि सुबह उठते ही आईने में अपने चेहरे को निहारती है। ऐसा करना अशुभ माना जाता है। और यह हमारे लिए नकारात्मक होता है। सुबह उठते ही अपने इष्टदेव को मन में स्मरण करना चाहिए। इससे पूरा दिन अच्छा बीतता है।

सुबह उठते ही किसी का भी चेहरा नहीं देखे। क्योंकि पता नहीं कब किसका चेहरा आपके लिए अशुभ साबित हो जाए। इसलिए कमरे में ऐसे चित्र लगाए जिनको देखने से आपको पॉजिटिव एनर्जी मिल सके। जैसे नारियल, शंख, मोर और फूलों के चित्र। सुबह उठते ही बंदर को नहीं देखना चाहिए। और ना ही कुत्तों की लड़ाई देखनी चाहिए। ऐसा करने से आपके जीवन में बहुत सी मुश्किलें आ सकती है। और आपके घर में अन्न और धन की कमी हो सकती है।

सुबह उठते ही अपनी छाया को देखना व्यक्ति के लिए बहुत बड़ा दुर्भाग्य होता है। ऐसा करने से व्यक्ति का जीवन बहुत ही दुख मे बीतता है। सुबह उठते ही किसी स्त्री को गंदी नजरों से नहीं देखना चाहिए इससे महापाप लगता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper