सुबह खाली पेट चाय पीने वाले हो जाएं सावधान, हो सकती है ये गंभीर बीमारी

चाय से अपने दिन की शुरुआत करना हर किसी को पसंद होता है। करीबन 80 प्रतिशत लोग तो ऐसे होते हैं कि बेड टी पिए बिना वो बेड से उठ नहीं पाते हैं। लेकिन उन्हें ये नहीं पता होता कि इस बेड टी से उनकी सेहत पर क्या असर पड़ सकता है। आईये जानते हैं कि खाली पेट चाय पीने से सेहत पर क्या बुरा असर पड़ सकता है।

शरीर पर पड़ता है असर

मौसम कोई भी हो, चाय अगर खाली पेट पी जाए तो हमेशा ही नुकसानदायक होती है। इसकी मुख्य वजह है चाय में मौजूद तत्व। आपको बता दें कि चाय में कैफीन भारी मात्रा में मौजूद होता है। इसके साथ ही इसमें थियोफाइलीन और एल थयनिन जैसे तत्व भी मौजूद होते हैं जो कि आपके शरीर को उत्तेजित करते हैं।

ब्लैक टी भी है हानिकारक

माना जाता है कि ब्लैक टी खाली पेट पीना हमारे स्वास्थ के लिए बहुत ही अच्छा होता है लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। अगर आप भी खाली पेट ब्लैक टी पीते हैं तो यह आपके लिए बहुत ही हानिकारक साबित हो सकता है। इसे पीने से मोटापा होने के साथ-साथ कई गंभीर बीमारियां भी हो सकती हैं।

दूध वाली चाय का ये होता है असर

सिर्फ ब्लैक टी ही नहीं, बल्कि दूध वाली चाय भी अगर खाली पेट पी जाए तो हमारी सेहत के लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है। हालांकि इसका असर तुरंत नहीं दिखता लेकिन धीरे-धीरे असर करते-करते ये ऐसी बड़ी समस्या पैदा कर सकती है जो कि आपके लिए बहुत ही चिंताजनक साबित हो सकती है।

शुरुआत में आपको थकान, घबराहट और उल्टी आना जैसी समस्या झेलनी पड़ सकती है। धीरे-धीरे इसका असर इतना ज्यादा पड़ सकता है कि इससे पेट के अंदर जख्म, पेट के अंदर की स्किन का जल जाना और अल्सर जैसी खतरनाक बीमारियां भी हो सकती हैं।

अगर चाय के इन असर से बचना चाहते हैं तो सुबह चाय पीने से पहले दो-तीन ग्लास पानी पी लें और कुछ हल्का खा लें और उसके बाद चाय पिएं जिससे कि आप चाय का मज़ा भी उठा सकें और इससे आपको कोई परेशानी का भी सामना ना करना पड़े।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper