सेहत के लिए फायदेमंद हैं पालक का जूस, जानिये कैसे

पालक (Spinach) खाने से फायदे हम आपको पहले ही बता चुके हैं लेकिन आज हम आपको पालक के जूस पीने से स्वास्थय (Health) लाभ बताने जा रहे हैं। जिस प्रकार हरी सब्जी में पालक की भूमिका सर्वोपरि होती है उसी तरह इसके औषधीय गुणकारी जूस पीने से भी कई फायदे होते हैं। इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन (Vitamin), मिनरल, आयरन होता है जो हमारी बॉडी को स्वस्थ ही नहीं हमारी त्वचा को भी सुन्दर और चमकदार बनाता है। ताजी पालक में कारोटेन्‍स, अमीनो एसिड (Amino Acid), पौटेशियम और आयोडिन होता है। इसके अलावा, इसमें विटामिन ए, के, सी और बी होता है। आइये जानते हैं.

 

पालक जूस पीने से स्वास्थ्य लाभ

 

पालक में मौजूद अल्‍केमाइन मिनरल (Mineral) शरीर के पीएच मान को बनाये रखते हैं। पालक जूस (Spinach Juice) को पतला नहीं बनाये क्यूंकि इसमें से फाइबर नष्ट हो सकता है। वजन को घटाने से लेकर पालक का जूस शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर शरीर को स्वस्थ रखने का काम करता है।

 

  • पालक का जूस क्षारीय होता है जो जोड़ों के दर्द (Joints Pain) से राहत देने में मदद करता है। यह हड्डियों को मजबूत और स्वस्थ बनाता है।

 

  • पालक में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्‍सीडेंट (Anti-Oxidant) होता है। इसके सेवन से त्‍वचा की झुर्रियां दूर हो जाती है और चेहरे की त्‍वचा में कसाव आ जाता है। पालक के जूस के नियमित सेवन से बढ़ती उम्र की त्‍वचा सम्‍बंधी समस्‍याएं भी दूर हो जाती है और चेहरे पर दमक आ जाती है।

 

  • विटामिन सी (Vitamin C) भरपूर पालक मसूड़ों और दांतों को मजबूत बनाता है। यह मसूड़ों से निकलने वाले खून को भी रोक देता है।

 

  • पालक के जूस का सेवन करते समय यदि आप इसमें शहद (Honey) के साथ काली मिर्च की थोड़ी सी मात्रा मिलाकर, इसका सेवन करेंगे तो सर्दी खासीं जुकाम के साथ दमा दैसी समस्या से भी आप छुटकारा पा सकती हैं।

 

  • पालक के रस में अजवाइन (Celery) मिलाकर पीने से गैस संबंधी समस्याएं तो दूर होती ही है साथ ही पेट में होने वाले कीड़ों से भी काफी राहत मिलती है। यह कीड़े पेट के अंदर ही मर जाते है।

 

  • आधा कप पालक के रस में कुल्थी के रस के साथ नींबू ते रस की कूछ बूदों को मिलाकर इसका सेवन करने से पथरी की समस्या से निजात मिल सकता है। इसका सेवन आपको दिन में दो बाद करना चाहिए।

 

  • खून की खराबी के कारण शरीर (Body) में दाने निकलने लगते है जो दिखने बहुत ही खराब लगते हैं। इन्हे सही करने के लिए पालक का जूस सर्वोपरि होता है। इसलिए शरीर में दाने निकलने पर पालक के जूस (Spinach Juice) का सेवन करें।

 

  • पालक में एक यौगिक पाया जाता है, जिसके कारण वसा के पचने की गति धीमी हो जाती है और इसके कारण भूख कम लगती है। थाईलाक्वोइड के गाढ़े रस से तृप्ति दिलाने वाले हारमोन का स्राव बढ़ जाता है, जो भूख मिटाने में काफी मददगार होता है। जिसके कारण आप ज्यादा खाना खाने से बचेंगे और मोटापा नहीं बढ़ेगा।

 

  • पालक के जूस में क्लोरोफिल (Chlorophyll) और फ्लेवोनोइड्स पाया जाता है जो कैंसर (Cancer) कोशिकाओं के निर्माण से मुकाबला करने में मदद करता है।

 

  • पालक के जूस से सनबर्न या टैनिंग (Tanning) की समस्याै दूर हो जाती है। पालक का जूस लाभकारी होता है, क्योंककि इसमें विटामिन ‘बी’ कॉम्पोलेक्सी होता है जो सूर्य की खराब किरणों से त्वबचा की रक्षा की रक्षा करता है।

 

  • पालक में विटामिन के और फोलेट (Folate) होता है जो त्‍वचा को दानोंरहित और डार्क सर्कल से मुक्‍त कर देता है। अगर आपका रंग सांवला है तो नियमित रूप से पालक के जूस का सेवन करें। इसके सेवन से रंग गोरा हो जाता है।

 

  • पालक में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्‍सीडेंट होता है। इसके सेवन से त्‍वचा की झुर्रियां दूर हो जाती है और चेहरे की त्‍वचा में कसाव आ जाता है। पालक के जूस के नियमित सेवन से बढ़ती उम्र की त्‍वचा सम्‍बंधी समस्‍याएं भी दूर हो जाती है और चेहरे पर दमक आ जाती है।
नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper