सोनिया गांधी ने लिखा PM को खत- लॉकडाउन का किया समर्थन, तुरंत लागू किए जाने वाले दिए सुझाव

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जहां 21 दिनों के संपूर्ण देशबंदी की घोषणा की हुई है। वहीं कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने गुरुवार को प्रधानमंत्री मोदी को एक चिट्ठी लिखी है। जिसमें उन्होंने लॉकडाउन की इस अवधि में तुरंत लागू किए जाने वाले सुझाव दिए हैं।

कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर 21 दिन के लॉकडाउन का समर्थन किया और डॉक्टरों और अर्द्धचिकित्सकों की रक्षा करने तथा आपूर्ति श्रृंखला को आसान बनाने के लिए कदम उठाने की मांग की। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र को छह महीनों के लिए सभी ईएमआई को टालने पर विचार करना चाहिए, इस अवधि के लिए बैंकों द्वारा लिया जाने वाला ब्याज भी माफ करना चाहिए। सोनिया गांधी ने कहा कि पूरे देश में 21 दिन तक लॉकडाउन का सरकार का फैसला स्वागत योग्य है, हम इसका समर्थन करेंगे।

कोरोनावायरस: सोनिया गांधी ने लिखा PM को खत- ’21 दिन लॉकडाउन का फैसला शानदार, सरकार का करेंगे समर्थन’

वहीं दूसरी ओर कोरोना वायरस का प्रसार रोकने के लिए देश में किए गए 21 दिन के बंद (लॉक डाउन) के मद्देनजर बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी ने केंद्र और राज्य सरकारों से गरीबों के लिए राहत पैकेज की मांग की है। बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमों मायावती ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा “देश की 130 करोड़ गरीब/मेहनतकश जनता पर 21 दिनों के लॉकडाउन/कर्फ्यू वाली पाबन्दियों को कड़ाई से लागू करने के बाद, खासकर गरीब लोगों का पेट भरने अर्थात उनकी रोटी-रोजी की समस्या को दूर करने के लिए केन्द्र और राज्य सरकारों द्वारा राहत पैकेज की व्यवस्था करना बहुत ही जरूरी है। इस पर तुरन्त ध्यान दें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper