सोनिया ने कहा- पीएम मोदी को न तो संसद और न ही संविधान की कोई चिंता

नई दिल्ली। मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस की ‘भारत बचाओ रैली’ में सभी नेताओं ने एक साथ जमकर हमला बोला। कांग्रेस महासचिव सोनिया गांधी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी और कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी सरकार को आड़े हाथ लेते हुए निशाना साधा। सोनिया गांधी ने कहा कि आज देश में अंधेर नगरी चौपट राजा वाला माहौल है।

सोनिया गांधी ने कहा कि आज जब मैं किसान भाइयों की दशा देखती हूं तो बहुत तकलीफ होती है। उन्हें अपने खेतों के लिए सही समय पर बीज नहीं मिलता आसानी से खाद नहीं मिलता। उन्होंने कहा कि पानी-बिजली नहीं मिलती, फसल के उचित दाम नहीं मिलते। हमारे कामगार भाई-बहन दिनरात मजदूरी में लगे रहते हैं। सर्दी-गर्मी की परवाह किए बिना काम करते रहते हैं फिर भी उन्हें दो वक्त की रोटी नहीं मिलती। सोनिया गांधी ने कहा कि आखिर सरकार का खजाना क्यों खाली हो गई, इसकी जांच होनी चाहिए।

पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह पर जुबानी हमला बोलते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि हम अंतिम सांस तक लोकतंत्र की रक्षा करेंगे। नागरिकता कानून से देश की आत्म तार-तार होगी। उन्होंने कहा कि अब हमें देश के लिए कठोर संघर्ष करना होगा। सोनिया ने कहा कि पीएम मोदी को न तो संसद और न ही संविधान की कोई चिंता है। उन्होंने कहा कि इस देश की हालत बेहद खराब है। सोनिया ने कहा कि गलत नीतियों के कारण देश की हालत बेहद खराब है। सोनिया ने सवाल किया कि आखिर नवरत्न कंपनियां क्यों और किसको बेची जा रही है?

मोदी के दौरे के विरोध में सपा और कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper