सोमवार है कुछ खास

सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा का विधान है। भगवान शिव ऐसे देवता हैं, जो अपने भक्तों पर बहुत जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। सोमवार के दिन अगर विधि-विधान से पूजा की जाए, तो भगवान शिव का आशीर्वाद आसानी से पाया जा सकता है। सोमवार के दिन अगर आप कुछ उपायों को अपनाते हैं, तो आपके जीवन में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहेगी। अगर आप सिर्फ एक लोटा जल भी शिवलिंग पर चढ़ा दें, तब भी शिव जी आपको अपनी कृपा का पात्र बनाएंगे। आइए हम आपको बताते हैं सोमवार के दिन करने वाले कुछ उपायों के बारे में।

भगवान शिव पर जल या दूध का अभिषेक करने से वह अत्यंत प्रसन्न हो जाते हैं। रुद्राभिषेक करने वाले भक्त के भगवान शंकर सब संकट हर लेते हैं और उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। यदि किसी व्यक्ति को लंबे समय से कॅरियर में सफलता हासिल न हो रही हो, तो इस उपाय को करने से बात बन जाती है।

चावल, दूध, चांदी दान करें। ऐसा करने से शिवजी के प्रसन्न होने के साथ ही चंद्रमा भी मजबूत होता है। इससे जीवन में तरक्की की राहें लगातार खुलती चली जाती हैं। हालांकि चंद्रमा नीच का होने पर चांदी को नदी में बहाने से सारे कष्ट या समस्याएं बह जाती हैं। जिसकी कुंडली में चंद्रमा नीच है, वह व्यक्ति सफेद कपड़े पहने और चंदन का सफेद तिलक लगाए। इससे जल्द ही कॅरियर में सफलता हासिल होगी। खीर खाना भी शुभ माना जाता है।

दो मोती या चांदी के दो बराबर के टुकड़ों में से एक टुकड़े को पानी में बहा दें। इसके बहाने से सोची हुई मुराद पूरी हो जाती है। दूसरे मोती या टुकड़े को हमेशा के लिए अपने पास रखें। चांदी की अंगूठी और सफेद मोती को धारण करने से भी लाभ मिलता है। चंद्रमा कष्ट दे रहा हो, तो रात को दूध या पानी से भरा बर्तन सिरहाने रखकर सो जाएं और सुबह पीपल के पेड़ में डाल दें।

सोमवार के दिन शिव को 11 बेलपत्र अर्पित करें और प्रसाद के रूप में इमरती चढ़ाएं। जल चढ़ाते समय ‘ऊं नम: शिवाय’ मंत्र का जाप अवश्य करें।शिवलिंग पर नियमित मिश्री मिला हुआ जल अर्पित करना और भी शुभकारक माना जाता है। शिव-गौरी की पूजा करनी चाहिए। शिव पूजन के बाद सोमवार व्रत कथा सुननी चाहिए। कम से कम 16 सोमवार का व्रत अवश्य करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper