सोशल मीडिया पर फेक आईडी से न जुड़ें

लखनऊ: पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई सोशल मीडिया पर अपना जाल फैलाकर देश की जनता से जानकारी हासिल कर रही है, इससे बचने के लिए आतंकवादी निरोधक दस्ता (एटीएस) ने सतर्क रहने की अपील की है। आईजी एटीएस असीम अरूण द्वारा की गई अपील में में कहा गया है कि यदि लगता है कि फेसबुक, वाट्सऐप, ट्विटर इत्यादि ग्रुपों में कोई फेक आईडी से सम्पर्क कर आपसे जुड़ गया है या फिर जोड़ लिया है। जो राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के लिए जासूसी कर रहा है तो तत्काल सतर्क होकर आतंकवादी निरोधक दस्ता (एटीएस) से सम्पर्क करिए।

और हां, आपको डरने व घबराने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि आपका नाम गोपनीय रखा जाएगा और उस आईडी की वृहद स्तर पर जांच की जाएगी। इसके लिए मोबाइल नम्बर 9792103038 सूचित किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया पर विभिन्न रूपों में आतंकवादी संगठन सक्रिय हैं। भोली-भाली जनता जो विदेशियों के नाम पर फंस जाती है और उनके सम्पर्क में आकर अपने आसपास की जानकारी दे बैठती है।

कई बार दी गई इस तरह की जानकारी राष्ट्र के लिए घातक सिद्ध होती है। फेसबुक पर ये आईडी खुद को डिफेंस रिपोर्टर, सोशल वर्कर, इंटीरियर डिजाइनर इत्यादि बताया जाता है। शुरूआती चैटिंग में मीठी-मीठी बातें कर जवानों को फंसाया जाता है, फिर आकर्षक तस्वीरों से लेकर महत्वपूर्ण जगहों पर सेना के मूवमेंट की जानकारी ली जाती है। ज्ञात हो कि पिछले हफ्ते बीएसएफ का एक जवान एएन मिश्र द्वारा फेसबुक व व्हाट्सएप के माध्यम से आईएसआई को विभिन्न तरह की जानकारी देने के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेजा गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper