स्मार्टफोन की लत से बीमार होते लोग

लंदन: स्मार्टफोन की लत लोगों को बीमार बना रही है। किसी भी चीज की अधिकता सही नहीं होती है। यह बात स्मार्टफोन पर भी लागू होती है। इस हकीकत से कोई इनकार नहीं कर सकता है कि स्मार्टफोन हमारे लिए काफी उपयोगी है लेकिन हद से ज्यादा इसकी आदत भी बुरी है। कनाडा की यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया की रिसर्च में सामने आया है कि डिनर के दौरान कुछ लोगों को स्मार्टफोन की जब अनुमति दी गई तो पाया गया कि खाने से उनकी दिलचस्पी खत्म हो गई। इसी यूनिवर्सिटी के रिसर्चर रेयान डॉयर का कहना है कि दशकों की अध्ययन से सामने आया है कि हमारी भलाई के लिए अन्य लोगों के साथ समय बिताना जरूरी है लेकिन आधुनिक तकनीक हमें उनसे दूर कर सकती है।

शोधकर्ताओं ने अध्ययन के लिए दो तरीका अपनाया। एक तो उन्होंने होटल में जाकर मैदानी परीक्षण किया दूसरा एक सर्वे किया। होटल में हुए शोध में 300 से ज्यादा वयस्क लोगों और यूनिवर्सिटी के छात्रों ने हिस्सा लिया। होटल में अध्ययन के दौरान पाया गया कि खाने के दौरान स्मार्टफोन से खाने के प्रति दिलचस्पी और आनंद खत्म हो जाता है। एक अन्य अध्ययन में यह बात भी आई है कि दयावान लोग सोशल मीडिया पर कम समय बिताते हैं। आत्म केंद्रित लोग ही सोशल मीडिया पर ज्यादा सक्रिय रहते हैं। अमेरिका की इंडियाना यूनिवर्सिटी की सारा कोनरथ ने बताया कि जो लोग अपने और अन्यों की भावनाओं से ज्यादा आरामदेह महसूस नहीं करते हैं वे ऑनलाइन ज्यादा सहज महसूस करते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper