स्व.पूर्व पीएम वाजपेयी की गलत नीतियों के कारण घाटी के हालात खराब हुए: राहुल गांधी

नई दिल्ली: कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को कश्मीर मामले पर बोलते हुए स्व. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पर विवादित टिप्पणी की है। राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि अटल बिहारी वाजपेयी की गलत नीतियों के कारण ही घाटी में हालात बिगड़े है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमेशा जम्मू-कश्मीर के हालात सुधारने की कोशिश करती रही, लेकिन वाजेपयी की गलत नीतियों के चलते वहां हालात बिगड़े हैं। राहुल गांधी ने कहा कि साल 2004 में जब यूपीए की सरकार बनी तो वहां के हालात काफी बिगड़े हुए थे। वाजपेयी सरकार की गलत राजनीतिक नीतियों के चलते कश्मीर में हालात बिगड़े हुए थे। हमारी सरकार की रणनीति से वहां के हालात सुधरे. हम पाकिस्तान पर दबाव बनाने में सफल रहे। हम जम्मू-कश्मीर की जनता के साथ मेल-जोल बढ़ा रहे थे।

इसके बाद राहुल ने पीएम मोदी पर हमला करते हुए कहा कि साल 2011 से 2013 तक जम्मू कश्मीर में कोई आतंकवाद नहीं था। पीएम मोदी की गलत नीतियों के चलते बीजेपी ने महबूबा मुफ्ती के साथ मिलकर सरकार बनाई। इसके बाद कश्मीर में हालात बिगड़ गए हैं। मोदी सरकार की गलत नीतियों के चलते पाकिस्तान कश्मीरी लोगों को आतंकवाद की आग में ढकेलने में सफल हो रहा है। अगर सरकार कश्मीर के लोगों को आतंकवाद और पाकिस्तान से बचाना चाहती है तो उस रणनीति के तहत काम करना चाहिए।

मालूम हो कि अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के दौर में ही साल 1999 में कारगिल युद्ध हुआ था, जिसमें भारतीय सेना ने पाकिस्तान को पटखनी दी थी। हालांकि इसके बाद भी वाजपेयी ने पाकिस्तान के साथ संबंध सुधारने के लिए हमेशा प्रयास करते रहे। उन्हीं के दौर में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के लिए बस सेवा शुरू की गई थी। इसके अलावा दोनों देशों के बीच रिश्ते सुधारने के लिए समझौता एक्सप्रेस ट्रेन सेवा की शुरुआत की थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper