हथेली की ये 3 रेखाएं चमका देती है किस्मत, जाने कितने लकी हैं आप

आपने अक्सर ये सुना और पढ़ा होगा कि व्यक्ति की किस्मत उसके हाथो की लकीरों में छिपी होती है। सभी इंसानों की किस्मत एक समान नहीं होती, किसी की किस्मत में सभी सुख आसानी से मिलते हैं तो किसी की किस्मत में कष्ट ही कष्ट लिखें होते हैं। ऐसे में कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जिनकी किस्मत में संतान सुख नहीं होता तो किसी की किस्मत में धन, विवाह नहीं होता हैं। सभी रेखाएं हमारे जीवन के लिए काफी खास होती हैं। हमारी हथेली पर जीवन रेखा, ह्रदय रेखा, विवाह रेखा और भाग्य रेखा होती है। इसके अलावा पर्वत भी होते हैं जो ग्रहों से जुड़े होते हैं।

हथेली पर बनने वाले पर्वत
गुरु पर्वत तर्जनी के नीचे वाले हिस्सा को कहते हैं।
शनि पर्वत मध्यमा के नीचे स्थित होता है।
अनामिका के नीचे स्थित पर्वत को सूर्य पर्वत कहते हैं।
कनिष्ठा के नीचे वाले पर्वत को बुध पर्वत कहते हैं।
अंगूठे के नीचे बना पर्वत शुक्र पर्वत कहलाता है।

हर किसी की रेखाएं अलग-अलग होती हैं अगर किसी व्यक्ति की हथेली पर रेखाएं अधिक कटी और फटी हैं तो यह उसके लिए अशुभ संकेत नहीं है। जबकि ये रेखाएं शुभता को दर्शाती हैं। वहीं हथेली में पर्वतों का उभार जितना होगा उतना ही उस व्यक्ति के लिए अच्छा होगा।

ऐसा व्यक्ति होता है भाग्यशाली
जब हथेली पर भाग्य रेखा मणिबंध से शुरू होकर सीधे शनि पर्वत पर मिलती है तो ऐसा व्यक्ति बहुत ही भाग्यशाली होते है। ऐसा व्यक्ति जीवन के हर एक क्षेत्र में सफलता प्राप्त करता है।

इन्हें मिलती है जीवन में सफलता
इसके अलावा जिस किसी की हथेली में भाग्य रेखा चंद्रमा के क्षेत्र से प्रारम्भ होता है उसका हर क्षेत्र में हर काम सफल होता है और जीवन में बहुत मान-सम्मान भी मिलता हैं।

इन लोगों का आर्थिक जीवन होता है शानदार
वहीं अगर भाग्य रेखा जीवन रेखा से प्रारंभ हो तो उस व्यक्ति के जीवन में धन संबंधी कभी भी परेशानियां नहीं आती। वह हमेशा आर्थिक तंगी से दूर रहता हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper