हनुमान पूरी करेंगे दिल की हर मुराद, बस करना होगा ये काम

हनुमान जी अपने भक्तों पर आने वाले सभी संकटों को पल भर में ही दूर कर देते हैं। और जिन भक्तों से हनुमान जी प्रसन्न रहते हैं। उन पर वे कभी भी ऐसी कोई समस्या नहीं आने देते। और हनुमान जी को खुश करने के लिए आपको ज्यादा कुछ करने की जरुरत भी नहीं होती हैं। बस आपको कुछ खास उपायों को विधिवत मंगलवार के दिन करना हैं।

आइए जानते है किन खास उपायों को मंगलवार के दिन करना चाहिए

1- मंगलवार को मिष्ठान का दान करते हैं तो मीठा न खाएं। जिस वस्तु का दान किया जाता है, उसे उस दिन स्वयं नहीं खाना चाहिए।

2- हनुमान जी की प्रतिमा या तस्वीर पर चमेली के तेल का दीपक जलाएं।

3- किसी मंगलवार भगवान हनुमान को लाल रंग का रुमाल चढ़ाएं और प्रसाद की तरह इस रुमाल को अपने साथ हमेशा रखें। इस रुमाल को यूज नहीं करना बल्कि अपने साथ रखना है। आप जहां भी जाएं ये रुमाल साथ रखें।

4- मंगलवार के दिन गरीब मजदूर को चाय जरूर पिलाएं।

5- मंगलवार के दिन गरीब बच्चों में लाल रंग की मिठाई बांटें।

6- रसोई में खाने का वेस्ट होने से बचाए। खास कर सब्जी न जलने दें और दूध न गिरने दें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper