हाइपरटेंशन के लिए रामबाण है अनार जूस

नई दिल्ली: पिछले दिनों हुई अलग-अलग रिसर्च में सामने आया है कि भारत में हाइपरटेंशन की समस्या बहुत तेजी से बढ़ी है। वर्तमान में हर तीन भारतीयों में एक इस समस्या की गिरफ्त में है। बताया जाता हैं कि हम भारतीय आदतन अपनी सेहत को लेकर लापरवाह होते हैं। लेकिन अब सेहत की ऐसी अनदेखी की गई तो परिणाम घातक हो सकते हैं। रोज के काम का दबाव इतना अधिक बढ़ रहा है और हमारी सेहत को इतना अधिक नुकसान पहुंचा रहा है कि हम गंभीर रूप से बीमार हो रहे हैं।

खास बात यह है कि हमें इस बीमारी का अहसास भी तब होता है, जब बीमारी गंभीर अवस्था में पहुंच चुकी होती है। लगातार सिरदर्द रक्तचाप की समस्या में बदल जाता है। उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्ति की कार्य क्षमता प्रभावित होने लगती है और जाहिर तौर पर इससे उसे परफॉर्मेंस पर असर पड़ता है। हाइपरटेंशन और हाईब्लड प्रेशर से बचने का एक ही तरीका है कि हम लोग कंट्रोल डाइट लें। अपने खाने में नमक की निर्धारित मात्रा का उपयोग करें।इसी तरीके से हम अपना ब्लड प्रेशर रेग्युलेट कर सकते हैं।

हालांकि कुछ दवाइयों के सेवन से भी इस कंट्रोल किया जा सकता है।किसी भी तरह की दवाइयों से बचते हुए अपने आप को हाइपरटेंशन से दूर रखने का एक शानदार तरीका है अनार के स्वादिष्ट जूस का सेवन। इस जूस के जरिए न केवल आप हाइपरटेंशन की स्टेज तक पहुंचने से बचेंगे बल्कि रोजमर्रा की जिंदगी में होनेवाले स्ट्रैस से भी यह आपको फ्री रखता है।

गृहमंत्री बनते ही मिशन कश्मीर में जुटे थे अमित शाह!

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper