हीरा कारोबार पर बड़ा संकट!, करीब 15000 कारीगर बेरोजगार हो चुके हैं

सूरत (Surat) में हीरा कारोबार पर फिर संकट के बादल हैं. डिमांड घटने के कारण अब तक 200 कारीगरों को निकाला जा चुका है. अचानक नौकरी से निकाले जाने के बाद हीरा घिसने वाले कारीगर संघ कार्यालय पहुंचे. इन कारीगरों का कहना है कि कंपनी के मालिकों ने कहा कि काम नहीं होने की वजह से वह कारखाना बंद करने जा रहे हैं, इसलिए उन्हें नौकरी से निकाला जा रहा है.

मंदी के दौर में इन कारीगरों के सामने बड़ी आर्थिक चुनौती आ गई है. कारीगरों का कहना है कि वे पिछले कई सालों से एक ही फैक्ट्री में काम कर रहे थे. अब जब उन्हें निकाल दिया गया है तो इनके सामने खाने का भी संकट पैदा हो गया है.

पिछले दिनों एक रिपोर्ट आई थी कि, जिसके मुताबिक डायमंड नगरी में करीब 15000 कारीगर बेरोजगार हो चुके हैं. सूरत के हीरे देश समेत पूरे विश्व में प्रख्यात हैं. यहां दुनिया के 10 में से 9 हीरे तैयार किये जाते हैं. देश विदेश के लोग यहां व्यापार करने आते हैं जिससे लाखों हीरे के कारीगर अपने घर का गुजारा चलाते हैं.

आधिकारिक आंकड़ों की बात करें तो हीरा कारीगरों के संघ कार्यालय के मुताबिक पिछले एक साल में 1500 हीरे के कारीगर बेरोजगार हुए हैं. साथ ही हीरा कारीगर संधि के अध्यक्ष का दावा है कि कंपनी बंद होने से अब मात्र 10% हीरे कारीगर उनके पास अपना नाम दर्ज करवाने आते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper