हीरो ने बंद किया अपनी इन लोकप्रिय बाइक का प्रोडक्शन, ये है बड़ी वजह

नई दिल्ली: हीरो मोटोकॉर्प ने अपने BS 4 मॉडल्स (भारत स्टेज 4) के 50 से ज्यादा वेरियंट्स का प्रॉडक्शन बंद कर दिया है। बता दें कि BS6 नॉर्म्स 1 अप्रैल 2020 से लागू हो रहे हैं। नए नियमों के तहत ऑटोमोबाइल कंपनियों को मौजूदा BS4 नॉर्म्स के मुकाबले लोअर इमिशन वाले वीइकल्स का प्रॉडक्शन करना होगा। 1 अप्रैल 2020 के बाद किसी भी BS4 वीइल्स को रजिस्टर नहीं किया जाएगा। हालांकि, बिक चुकी गाड़ियों को उनके लाइफटाइम के दौरान चलने की इजाजत होगी।

कंपनी ने जिन टू-वीलर का प्रॉडक्शन बंद किया है, उनमें हीरो स्पेंल्डर, HF डीलक्स, ग्लैमर के अलावा प्लेजर स्कूटर भी शामिल हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, डीलरशिप्स को इस फैसले के बारे में बता दिया गया है। इन 4 प्रॉडक्ट्स का प्रॉडक्शन बंद होने के साथ ही डीलरशिप्स में ये मॉडल्स स्टॉक उपलब्ध होने तक ही मिलेंगे। हीरो स्पेंल्डर और HF डीलक्स दोनों की कंपनी की मंथली सेल्स में 4.5 लाख यूनिट्स से ज्यादा हिस्सेदारी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कंपनी ने एक अंतरिम काउंसिल भी बनाई है, जो कि BS 6 इमिशन नॉर्म्स में कंपनी के ट्रैन्जिशन की निगरानी करेगी। हीरो मोटोकॉर्प अपनी दूसरे BS4 वीइल्स को जल्द डिसकंटीन्यू करेगा। अंतरिम काउंसिल में हीरो की लीडरशिप टीम शामिल है और यह 13 दिसंबर से ऑपरेशनल होगी। यह काउंसिल 31 मार्च 2020 की तय समय अवधि से पहले पूरी इनवेंटरी के BS4 से BS6 में माइग्रेट होने में सेल्स और ऑफ्टर-सेल्स टीम को गाइड और सपॉर्ट करने में अहम रोल निभाएगी।

इस बीच, हीरो मोटोकॉर्प ने अपने BS 6 वेरियंट्स लाने के काम को तेज कर दिया है। कंपनी ने हाल में BS6 कंप्लायंट स्पेंल्डर iSmart लॉन्च की है, यह देश में पेश की जाने वाली पहली BS6 मोटरसाइकल है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, कंपनी का पोस्ट-फेस्टिव इनवेंटरी लेवल पहले से दो साल के लो पर है, जिससे ट्रैन्जिशन के लिए अच्छा स्पेस बना है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper