हेलमेट न पहनने से रोज मर रहे 28 युवा

लखनऊ: एसपी ट्रैफिक रविशंकर नीम ने कहा कि हेलमेट नहीं पहनने के कारण भारतीय सड़कों पर रोजाना लगभग 28 दोपहिया वाहन चालकों की मौत हो जाती है। इसके बावजूद युवा इस बावत सुधर नहीं रह रहे हैं। श्री नीम ने कहा कि उन्होंने गोमतीनगर के कई इलाकों में जहां युवा बाइकिंग के नाम पर स्टंट किया करते थे, उस पर रोक लगायी है, जिससे कि उनकी जान बचायी जा सके।

श्री नीम ‘‘हेलमेट फॉर लाइफ’ अभियान के तहत सुजूकी मोटर कॉपरेरेशन की पहल पर हजरतगंज चौराहे पर युवाओं को हेलमेट बांटने के बाद उन्हें जागरूक कर रहे थे। इस अवसर पर सुजूकी मोटरसाइकिल इंडिया प्रबंधन ने लखनऊ पुलिस को गिक्सर मोटरसाइकिल्स भी प्रदान किये। ‘‘हेलमेटफॉरलाइफ’ कैम्पेन के अंतर्गत सुजूकी मोटरसाइकिल इंडिया द्वारा ट्रैफिक अधिकारियों को 60 गिक्सर मोटरसाइकिल्स वितरित किये जायेंगे। कार्यक्रम पर ईवीपी सजीव राजशेखरन ने कहा कि हमने खासतौर से युवाओं के बीच हेलमेट पहनने को लेकर एक कैजुअल रवैया देखा है।

दो-पहिया वाहन चालकों के बीच हेलमेट पहनने की आदत विकसित करने के लिये जागरूकता फैलाने की चुनौती काफी बड़ी है। राजधानी में अत्यधिक यातायात वाले क्षेत्रों जैसे कि हजरतगंज, पॉलीटेक्निक, 1090 चौराहा, बाराबिरवा, गोल मार्केट और टेढ़ीपुलिया में हेलमेट वितरण गतिविधि का आयोजन किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper