हे भगवान! गोबर को भी नहीं छोड़ा, उसे भी चुरा ले गए चोर

चिक्कमगलुरु: इन दिनों चोरी की घटना की खबरें हर ओर से सामने आ रही हैं। लेकिन बिरुर जिले में पुलिस इन दिनों एक अजीबो गरीब चोरी के मामले की छानबीन कर रही है। दरअसल यहां डिपार्टमेंट ऑफ एनिमल हसबैंडरी की तरफ से गाय के गोबर की चोरी की शिकायत की गई थी। गौरतलब है कि गाय के गोबर का इस्तेमाल कृषि के क्षेत्र में काफी बड़े पैमाने पर किया जाता है इसलिए किसानों की तरफ से इसकी काफी डिमांड होती है।

पुलिस के मुताबिक इस मामले में 35 से 40 ट्रक गोबर की चोरी की बात सामने आई है। इतनी गोबर की कुल कीमत करीब सवा लाख रुपए बताई जा रही है। एनिमल हसबैंडरी डिपार्टमेंट की एक सुपरवाइजर को इस मामले में दोषी पाए जाने पर गिरफ्तार किया गया है। टीओआई के मुताबिक बिरुर सीपीआई सत्यनारायण स्वामी ने एनिमल हसबैंडरी डिपार्टमेंट के वरिष्ठ अधिकारियों को चोरी की सूचना दी।

कंपनी के CEO की मौत, पासवर्ड पता न होने से 1300 करोड़ के बिटकॉइन फंसे

शिकायत में कहा गया कि 35 से 40 ट्रक गाय के गोबर की चोरी स्टॉक से हो गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि गाय के गोबर को अमृतमहल कवल से किसी निजी जमीन पर ले जाया गया है। पुलिस ने बताया कि ज्वाइंट डायरेक्टर के पास आए शिकायत के आधार पर थाने में एफआईआर दर्ज कर लिया गया है।

यहां तक कि जिस जमीन पर गोबर के स्टॉक को ले जाया गया है उस जमीन के मालिक के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज किया गया है। पुलिस ने आश्वासन दिया है कि जांच के बाद गाय गोबर को एनिमल हसबैंडरी डिपार्टमेंट को सौंप दिया जाएगा। आपको बता दें कि गाय के गोबर औऱ गौमूत्र का इस्तेमाल कृषि के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर होता है। खेतों में खाद के तौर पर इसका काफी इस्तेमाल किया जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper