हैकर्स अपना रहे ATM से जालसाजी करने का नया तरीका, अपनाएं यह तरीके हो सकता है बचाव

नई दिल्ली। बैंक की भीड़ और समय की बचत से निजात दिलाने में एटीएम कार्ड का महत्वपूर्ण योगदान रहता है। लेकिन जितनी सुविधाएं मिलती हैं, सावधानी नहीं बरतने पर आपका बड़ा नुकसान भी उठा सकते हैं। अभी हाल की घटनाओं को में एटीएम कार्ड क्लोनिंग के जरिए जालसाज आपके एटीएम कार्ड तक अपनी पहुंच बना लेते हैं। इसके बाद आपके खाते में से पैसे निकल जाते हैं।

आपको बताते जाए कि किस प्रकार आपके खाते पर सेंध मारी जाती है। जालसाजी करने वाल पहले किसी भी एटीएम मशीन पर स्कीमर नाम की मशीन लगा देते हैं। यह मशीन बाजार में मात्र 7 हजार रुपए में आसानी से उपलब्ध हैं। यह डिवाइस कार्ड स्वाइप होने पर उसकी डीटेल्स को कॉपी कर लेती है। इस अकाउंट से जुड़ी सारी जानकारियां काॅपी कर लेते थे। डेटा एक इंटरनल मेमोरी यूनिट में स्टोर हो जाता है। स्कीमर में स्टोर हुए डेटा को किसी ब्लैंक कार्ड में ट्रांसफर करके उसे आपका कार्ड बना देते हैं। फिर इसी से पैसे निकाले जाते हैं। आपका एटीएम पिन जानने के लिए मशीन के आसपास सीक्रेट कैमरे भी लगा दिए जाते हैं। जो सारी रिकॉड कर लेता हैं।

एटीएम के दौरान इस प्रकार रखें सावधान…….

इस जगह पर आप अपना कार्ड डालते हैं, वहां चेक कीजिए कि स्लॉट के ऊपर कोई दूसरी चीज तो नहीं लगी हुई हैं। स्कीमर देखने में मशीन का हिस्सा ही लगती है। आसपास की दीवारों और कीबोर्ड के आसपास भी देखें कि कहीं कोई कैमरा तो नहीं लगा है। अगर किसी भी मशीन पर जरा भी शक हो तो उसका इस्तेमाल नहीं करें ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper