हैदराबाद गैंगरेप और हत्या से पवन जल्लाद आहत, कहा- जल्द हो सजा, मैं फांसी देने को तैयार

नई दिल्ली। खूंखार अपराधियों को फांसी के फंदे पर लटकाने वाले पवन जल्लाद ने हैदराबाद के दिशा रेप कांड पर दुख जताया है। वरिष्ठ जल्लाद पवन ने कहा, ‘ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए सिर्फ एक ही चीज़ जरूरी है कि जितनी जल्दी हो सके उन्हें फांसी दे देनी चाहिए।

निर्भया के मुजरिमों को अगर फांसी मिल गई होती तो आज ये स्थिति नहीं बनती। हैदराबाद कांड से दुखी पवन जल्लाद ने कहा कि अपराधियों को सजा नहीं होने से नए अपराधियों को पैदा होने का मौका मिलता है। अपराधियों को जल्द सजा होनी चाहिए। मैं फांसी के फंदे पर लटकाने को तैयार हूं।

मेरठ में रह रहे देश के वरिष्ठ जल्लाद पवन ने बताया कि निर्भया कांड के दोषियों के लिए डेथ वॉरंट जल्द आए, मैं फांसी पर लटकाने के लिए तैयार हूं। उन्होंने बताया कि उन्हें फांसी पर लटकाने के लिए सिर्फ दो से तीन दिनों का वक्त चाहिए। पवन जल्लाद ने कहा कि निर्भया के हत्यारों को आज फांसी मिल गई होती तो शायद, हैदराबाद की मासूम बेकसूर दिशा बेमौत मरने से बच गई होती। निर्भया के हत्यारों को आखिर तिहाड़ जेल में पालकर रखा ही क्यों जा रहा है? इन आरोपियों का माकूल इलाज करना जरूरी है। अन्यथा यह समस्या समाज में आए दिन होती रहेंगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper