हैरानीजनकः इस देश में दुल्हा-दुल्हन शादी के बाद तीन दिनों तक नहीं जा सकते टायलेट!

नई दिल्ली: शादी ब्याह को लेकर हर देश और धर्म के अपने-अपने अलग रिवाज होते हैं। सभी नवविवाहित जोड़े की खुशहाली के लिए सभी तरह के नियमों पालन करते हैं, लेकिन इंडोनेशिया के एक सम्प्रदाय में शादी को लेकर एक परंपरा चली आ रही है जिसके बारे में जानकर आप भी आश्चर्यचकित हो जाएंगे। इस अजीबोगरीब नियम के अनुसार, शादी करने के बाद तीन दिनों तक दुल्हा-दुल्हन टॉयलेट नहीं जा सकते हैं। इस नियम को सुनकर आप भले ही हैरत में आ जाएं, लेकिन इंडोनेशिया के टीडॉन्ग समुदाय में यह बहुत प्रचलित है। यहां के लोग इस अनोखी रस्म को सख्ती से निभाते हैं।

इस रस्म के अनुसार दुल्हा-दुल्हन को तीन दिनों तक टॉयलेट जाने की पाबंदी है। इस रस्म को तोड़ना उन की सभ्यता में अपशकुन माना जाता है। टीडॉन्ग समुदाय के लोगों का मानना है कि शादी एक पवित्र बंधन है। टॉयलेट जाने से शादी की पवित्रता नष्ट होगी और दुल्हा-दुल्हन अशुद्ध हो जाएंगे। साथ ही उन लोगों का मानना है कि टॉयलेट को बहुत सारे लोग इस्तेमाल करते हैं, जिससे टॉयलेट में उनकी निगेटिव ऊर्जा रह जाती है। अगर नये-नवेले दुल्हा-दुल्हन टॉयलेट का इस्तेमाल करते हैं, तो उनमें उन लोगों की निगेटिव ऊर्जा आ जाती है।

इससे दुल्हा-दुल्हन के रिश्ते टूटने का खतरा रहता है। इतना ही नहीं, इसके कारण दुल्हा-दुल्हन की जान भी खतरे में आ सकती है। दुल्हा-दुल्हन इस अपशकुन से बचे रहें, इसके लिए उन्हें तीन दिनों तक कम खाना दिया जाता है। हैरानी की बात तो यह कि इस प्रथा को मानने के लिए दुल्हा-दुल्हन को पानी भी कम पिलाया जाता है जिससे उनकी इस रस्म में बाधा न आ पाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper