हैरानीजनक पर सच्चाई हैः इस गांव में 12 साल की उम्र पूरी होते ही लड़कियां बन जाती हैं लड़का

आपने कई ऐसी खतरनाक बीमारियों के बारे में सुना होगा जिससे पीड़ित व्यक्ति की जान बच पाना बेहद ही मुश्किल होता है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसी बीमारी के बारे में बताने जा रहे हैं जो लड़कियों के लिए बेहद चिंताजनक बन गई है। इस बीमारी में होता ये है कि 12 साल की उम्र पूरी होते ही लड़कियां अपना वजूद खो कर लड़का बन जाती हैं। इस पर भले ही एकबारगी किसी को यकीन ना हो, लेकिन ये बिल्कुल सच है।

यह बीमारी कैरेबियाई देश के डोमिनिकन रिपब्लिक के ला सेलिनास गांव के लोगों में तेजी से फ़ैल रही है। इस गांव में अब तक तमाम लड़कियां इस बीमारी की चपेट में आ चुकी हैं। इस बीमारी का कोई भी इलाज भी नहीं है और यही वजह है कि इस बीमारी ने यहां के निवासियों, खासकर कि लड़कियों की नींद उड़ा कर रखी हुई है।

हैरानीजनक है कि जब यहां पर कोई लड़की पैदा होती है तो वो किसी भी आम लड़की की तरह ही होती है और उसमें कोई भी दिक्कत नहीं होती है लेकिन जब लड़की 12 साल की उम्र पूरी करती हैं तो उसके शरीर में नाटकीय बदलाव आने लगते हैं, यहां तक कि लड़कियों की चाल भी लड़कों जैसी हो जाती है। लड़की की आवाज भारी हो जाती है और उसमें पुरुषों वाले अंग विकिसित होने लगते हैं और वो लड़की से लड़के में बदल जाती हैं।

इस बीमारी को ‘सूडोहर्माफ्रडाइट’ के नाम से जानते हैं। बता कि इस बीमारी की वजह से लड़कियों को घृणा की नजरों से देखा जाता है और लोग उन्हें अपने साथ रखना पसंद नहीं करते हैं। बीमारी में बच्चे मानसिक तनाव से गुजरने लगते हैं क्योंकि समाज उन्हें नापसंद करने लगता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper