हैवानियत की इंतहा! बच्चे का गुप्तांग पकड़कर खींचता था टीचर, चटवाता था थूक!

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के पारा स्थित एक स्कूल के अंग्रेजी टीचर पर कक्षा-9 के छात्र के पिता ने अमानवीय हरकत करने का आरोप लगाया है। आरोप है कि टीचर ने छात्र को थूक चटवायी। टीचर की प्रताड़ना से तंग आकर सहमे छात्र ने स्कूल जाने से इंकार कर दिया। छात्र की दशा देख परिजनों ने पूछा तो उसने आपबीती बयां की। पीड़ित पिता शिकायत लेकर स्कूल पहुंचे लेकिन उनकी सुनकर मदद करने के बजाए स्कूल प्रबंधन ने उन्हें टरका दिया। पीड़ित ने पारा थाने में टीचर, प्रिंसिपल व प्रबंधक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करायी है।

गायत्रीनगर पारा में वकील परिवार के साथ रहते हैं। उनका तेरह वर्षीय बेटा रोहित (काल्पनिक नाम) निजी स्कूल में कक्षा-9 का छात्र है। पीड़ित पिता ने बताया कि स्कूल में करीब एक माह पहले अंग्रेजी के टीचर रुचिर शर्मा ने ज्वाइन किया था। शुरुआत से ही टीचर बच्चों को डराने-धमकाने लगे। यह बात बेटे ने पिता को बतायी तो उन्होंने स्कूल प्रशासन से शिकायत की। इसी शिकायत के बाद से टीचर उनके बेटे को शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित करने लगे। तीन पन्नों की लिखित शिकायत में पीड़ित ने कहा कि टीचर उसके बेटे के साथ गलत हरकत करते थे। वह बेटे का गुप्तांग पकड़कर खींचकर उसे तकलीफ पहुंचाते थे।

यही नहीं टीचर ने थूककर भी बेटे को चटाया। साथ ही उसके मुंह का दाना फोड़कर निकली गंदगी को चटवाने की कोशिश की। छात्र कुछ वक्त तक टीचर की प्रताड़ना सहता रहा लेकिन फिर स्कूल जाने से मना करने लगा। पिता ने स्कूल जाने की बात कही तो उसने स्कूल जाने से साफ मना कर दिया। पूछने पर बेटे ने आपबीती पिता को बतायी तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गयी। यह सुनकर पीड़ित पिता स्कूल पहुंचे और स्कूल प्रबंधन से टीचर के खिलाफ शिकायत की। टीचर पर कार्रवाई करने के बजाए स्कूल प्रबंधन बचाव में उतरा और उन्हें धमकाकर स्कूल से बाहर निकाल दिया। इसके बाद तीन पन्नों की लिखित शिकायत लेकर पीड़ित पिता पारा थाने पहुंचे। उनका कहना है कि थाने पर मौजूद पुलिसकर्मी ने तीन पन्ने पढ़ने के बाद छोटा प्रार्थना पत्र लिखकर देने को कहा।

इसके बाद उन्होंने थाने पर मौजूद मददगार ने तहरीर लिखवायी और पुलिस को सौंपी। पुलिस ने तहरीर के आधार पर टीचर, प्रिंसिपल व प्रबंधक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।पीड़ित पिता का कहना है कि रिपोर्ट दर्ज करने के बाद से पुलिस मामले को दबाकर बैठ गयी है। पुलिस ने अभी तक न ही पीड़ित छात्र के बयान लिए और न ही स्कूल में आरोपित टीचर के बारे में जानकारी की। उनका आरोप है कि पुलिस ने तहरीर पर उचित धाराएं नहीं लगायी हैं। पीड़ित पिता का कहना है कि वे मामले में वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत करेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper