है दुनिया का अजीबोगरीब रेस्टोरेंट, यहां बोलने पर है पाबंदी-ऐसे होते हैं सब काम

नई दिल्ली: आपने दुनियाभर में शानदार सुविधाओं और अपनी खासियतों वाले रेस्टोरेंट के बारे में सुना होगा, लेकिन आज हम आपको रेस्टोरेंट के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां पर आप बोल नहीं सकते है। यहां सिर्फ इशारों से ही अपने खाने का ऑर्डर दे सकते हैं। ये बेहद अलग किस्म का रेस्टोरेंट कुछ समय पहले चीन के ग्वांगझू में खुला है।

इस रेस्टोरेंट की शुरूआत स्टारबक्स ने की है। इसे रेस्टोरेंट को साइलेंट कैफे का नाम दिया गया है। बता दें कि यह चीन का एकमात्र ऐसा रेस्टोरेंट है। जहां पर बिना बोले ही आप खाने का ऑर्डर दे सकते हैं। इस रेस्टोरेंट की खास बात ये भी है कि ग्राहक इस रेस्टोरेंट में बिना बोले ही ऑर्डर देते हैं। आपको जो भी मंगाना होता है अपने हाथ के इशारे से मेन्यू कार्ड के नंबर को बता दें ऑर्डर कुछ मिनटों बाद आपके पास आ जाएगा।

आपको बता दें कि इस रेस्टोरेंट में कुछ इस प्रकार की भी सुविधा दी गई है कि अगर कोई ग्राहक कर्मचारियों को नहीं समझा पा रहा है तो वह अपनी बात को नोटपैड पर लिखकर दे सकता है। इस रेस्टोरेंट की खास बात ये भी है कि यहां पर ग्राहक और कर्मचारियों के बीच डिजिटल संचार की सुविधा दी गई है।

इतना ही नहीं इस रेस्टोरेंट की दीवारों पर सांकेतिक भाषा के चिह्न और सूचक यानी इंडिकेटर भी बनाए हुए है। ताकि ग्रहको द्घारा बोली गई बात को आसानी से समझा जा सके। बता दें कि इस रेस्टोरेंट को खोलने का मकसद ग्राहकों को ना सुन पाने वाले लोगों की भाषा समझने के लिए उन्हें प्रेरित करना है। इस रेस्टोरेंट में अभी केवल 30 ही कर्मचारी काम करते हैं। जिसमें से 14 कर्मचारी ऐसे भी है जिनको सुनाई नहीं दे सकता है। इस रेस्टोरेंट की ऐसी व्यवस्था की गई है कि जिससे सुन सकने में असमर्थ लोगों को भविष्य में ज्यादा से ज्यादा नौकरी मिल सके।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper