कैराना उपचुनाव: सपा की तैयारियां पूरी, उम्मीदवार की तलाश

दिल्ली ब्यूरो: पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कैराना लोक सभा सीट के लिए होने वाले उपचुनाव को लेकर सभी दलों ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। सपा ग्राउंड लेवल पर अपनी तैयारी कर रही है तो बसपा भी पूरी तैयारी के साथ अपने लोगों को तैयार रहने को कह रही है। उधर अजित सिंह के बेटे जयंत सिंह भी अपनी तैयारी कर रहे है। इसी बीच जयंत सिंह की मुलाकात बसपा सुप्रीमों मायावती से हुयी है।

खबर के मुताबिक, जयंत सिंह गठबंधन उम्मीदवार के तौर पर कैराना से लड़ना चाह रहे है। हालांकि मायावती से मुलाक़ात से बाद जयंत को अभी किसी तरह का आश्वासन नहीं मिला है। खबर के मुताबिक कैराना सीट से सपा ही लड़ेगी और मायावती का पूरा सहयोग मिलेगा।

बता दें कि कैराना संसदीय क्षेत्र के चुनाव में समाजवादी पार्टी गोरखपुर और फूलपुर की तर्ज पर अपना प्रत्याशी उतारने की जुगत में है। इसके लिए बसपा के साथ गठबंधन को मजबूत बनाने पर जोर देने के साथ ही पार्टी के भीतर मजबूत प्रत्याशी के चयन पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। प्रदेश की कुछ चुनिंदा संसदीय सीटों में से एक कैराना में भाजपा का मुकाबला करने के लिए गठबंधन का मजबूत होना जरूरी है।

जयंत सिंह और रालोद के बारे में कहा जा रहा है कि कैराना के लोगों का और खासकर मुस्लिम समुदाय का जयंत और रालोद पर भरोसा कम हुआ है। पिछले चुनाव में कैराना में लोकदल प्रत्याशी को बहुत कम मत मिले थे। यहां के मुस्लिम मतदाताओं में राष्ट्रीय लोकदल पर संदेह है। दरअसल पिछले कई बार अजित सिंह भाजपा के साथ रहे हैं, जिससे रालोद प्रत्याशी के साथ मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। राज्यसभा चुनाव में रालोद विधायक ने बसपा का विरोध कर भाजपा के पक्ष में मतदान कर दिया था।

रालोद कार्यकर्ताओं व दलित मतदाताओं के बीच तनातनी से भी बसपा नेतृत्व जयंत को समर्थन देने में कई बार सोचेगा। दूसरी ओर, बसपा सैद्धांतिक तौर पर उप चुनाव में अपना प्रत्याशी नहीं उतारती है। ऐसे में वह समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी का समर्थन कर सकती हैं। विधानसभा परिषद के चुनाव में सपा ने अपने हिस्से की एक सीट बसपा के साथ गठबंधन धर्म को मजबूत बनाने के लिहाज से छोड़ दिया था। इससे बसपा उसका समर्थन कर सकती है।

समाजवादी पार्टी के महासचिव सुरेंद्र नागर का कहना है कि समाजवादी पार्टी अपना प्रत्याशी उतारने की तैयारियां कर रही है, जिसके लिए बूथ स्तर पर संगठन को मजबूत बनाया जा रहा है। कैराना संसदीय सीट की पांचों विधानसभा क्षेत्रों के लिए दो-दो पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की गई है। यहां के बूथ स्तर पर संगठन के गठन की प्रक्रिया को पूरा करना है। नियुक्त किये गये पर्यवेक्षकों में ज्यादातर अति पिछड़ी जाति के नेताओं को शामिल किया गया है।भाजपा के संभावित प्रत्याशी स्वर्गीय सांसद हुकुम सिंह की बेटी हो सकती हैं। माना जा रहा है कि सपा किसी गूजर नेताओं को यहां से प्रत्याशी नहीं बनाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper