17 मई तक इंटरनेट फ्री! जानिए क्या है Viral मैसेज का सच

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के लगातार बढ़ रहे मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने लॉकडाउन 17 मई तक के लिए बढ़ा दिया है। हालांकि इस दौरान सरकार ने शर्तों के साथ छूट भी दी है। लॉकडाउन को लेकर सोशल मीडिया पर कई तरह की अफवाहें फैलाई जा रही है। इसी बीच सोशल मीडिया पर फ्री इंटरनेट को लेकर एक खबर वायरल हो रही है।

वायरल खबर में मुफ्त इंटरनेट देने का दावा किया जा रहा है। इसमें दावा किया जा रहा है कि मोबाइल कंपनियों ने 17 मई तक इंटरनेट फ्री कर कर दिया है। दरअसल, सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि कोरोना महामारी के कारण 17 मई 2020 तक लॉकडाउन की वजह से मोबाइल कंपनियों नें सभी मोबाइल यूज़र्स को फ्री इंटरनेट देने का ऐलान किया है।

ये है सच्चाई
पत्र सूचना विभाग ने अपने फैक्ट चेक में इस खबर को झूठा करार दिया है। PIB ने कहा- ‘भारतीय दूरसंचार विभाग ने सभी मोबाइल यूज़र्स को 17 मई तक फ्री इंटरनेट देने का कोई ऐलान नहीं किया है। ये दावा बिल्कुल झूठा है। दिया गया लिंक भी फर्जी है। कृपया अफवाहों और जालसाजों से दूर रहें।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper