2018 में भूकंप के झटकों से दहल जाएगी दुनिया!

नई दिल्ली: 2018 में भूकंप के झटकों से दुनिया दहल जाएगी। यह चेतावनी अमेरिकी वैज्ञानिकों ने दी है। जियोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ अमेरिका ने बताया है कि पृथ्वी के घूमने की गति में आए बदलाव की वजह से आएंगे विनाशकारी भूकंप। इंटरनेट पर यह खबर तेजी से वायरल हो रही है। खबरों के मुताबिक 2018 भूकंप के लिहाज से सबसे विनाशकारी साल साबित होगा। इन खबरों में एक सर्वे का हवाला दिया जा रहा है। कहा जा रहा है कि 2018 में जो भूकंप आएंगे, वो रिक्टर स्केल पर 7 की तीव्रता से भी ज्यादा होंगे और धरती पर महाविनाश हो जाएगा।

वायरल खबर के मुताबिक धरती के अपनी धुरी पर घूमने की गति में बदलाव आ रहे हैं, जिसकी वजह से दुनिया भर में अगले साल विनाशकारी भूकंप आएंगे। वायरल खबर में एक रिपोर्ट का जिक्र है जिसमें पृथ्वी के घूमने की गति का भूकंप से सीधा संबंध होता है। वायरल खबरों में ये भी दावा है कि पृथ्वी के घूमने की गति में मामूली उतार चढ़ाव हुआ है। एक दिन में धरती के घूमने की गति 1 मिली सेकंड कम हो गई है। इस खबर को इंटरनेट पर सर्च किया तो पता चला कि ये रिपोर्ट अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो के रोजर बिल्हम और यूनिवर्सिटी ऑफ मोंटाना की रेबेका बेंडिक ने भूकंप पर किए गए रिसर्च का नतीजा है।

दरअसल वायरल खबर में जिस रिपोर्ट का जिक्र किया जा रहा है उसमें अमेरिका के वैज्ञानिकों ने 1900 साल पहले के भूकंपो पर शोध किया था। रिसर्च का एक हिस्सा पृथ्वी के घूमने की रफ्तार भी था। रिसर्च के मुताबिक पृथ्वी के घूमने की रफ्तार धीमी होती है तो इसके कोर में बदलाव आता है, जिससे भूकंप के आने की आशंका बढ़ जाती है।लेकिन पृथ्वी के घूमने की रफ्तार भी अचानक नहीं बदल रही, ये धीरे-धीरे बदलती है और इससे पृथ्वी की कोर में कितना बदलाव आएगा ये कहना भी जल्दबाजी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper