28 सालों से सिर्फ मिट्टी खाकर ही जिंदा है यह इंसान, डॉक्टर भी हैरान

नई दिल्ली: बच्चों को तो मिट्टी खाते हम सबने देखा होगा। इसके लिए कभी-कभी उनकी पिटाई भी हो जाती है। हम प्यार से भी बच्चे को समझाते हैं कि मिट्टी खाओगे तो बीमार पड़ जाओगे। लेकिन हममें से शायद ही किसी ने ऐसे इंसान के बारे में सुना हो जो सिर्फ मिट्टी खाकर जिंदा हो। वह भी एक दो दिन नहीं, बल्कि पूरे 28 सालों से और वह पूरी तरह से स्वस्थ भी है। एकबारगी भले ही इस पर यकीन ना हो, लेकिन यह सौ फीसद सच है।

हम बात कर रहे हैं फर्रुखाबाद के नेकपुर चैसारी कस्बे के रहने वाले 48 साल के हंसराज नामक व्यक्ति की। हंसराज का दावा है कि वो बीते 28 सालों से मिट्टी खा रहा है। हंसराज का कहना है कि मिट्टी ही उनका भोजन है। इतना ही नहीं उन्होंने दावा किया है कि वो बचपन से ही मिट्टी खा रहे है और उन्हें आज तक कोई समस्या नहीं हुई है। हंसराज का इस तरह से मिट्टी खाने के कारण लोग उन्हें सैंड मैन भी बुलाने लगे है।

कोई इंसान कैसे मिट्टी खाकर जिंदा रह सकता है कि इस पर डॉक्टरों का कहना हैं कि हंसराज पीका नाम की बीमारी से ग्रसित हैं, और ये उसके शरीर की मांग है कि वो बालू और मिट्टी खाए। डॉक्टरों का कहना हैं कि हंसराज का शरीर अब इसका आदी हो चुका है। हालांकि डॉक्टरों ने हंसराज को इस बारे में चेतावनी भी ही है कि अगर उन्होंने इसे खाना बंद नहीं किया तो उन्हें गंभीर स्वास्थ्यगत परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। लेकिन हंसराज का कहना है कि वो पूरी तरह से फिट है और बालू खाने से उसके शरीर को मिनरल्स मिलते हैं, जिससे वो पूरी तरह स्वस्थ रहते है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper