3 माह की फीस माफ कर दें प्राइवेट स्कूल, जानिये किसने कही ये बात

लखनऊ : उत्तर प्रदेश बाल अधिकारी संरक्षण आयोग की सदस्य प्रीति वर्मा ने सभी निजी स्कूल प्रबंधनों को तीन महीने की फीस माफ करने की अपील की है। इस संबंध में पत्र जारी किया गया है। पत्र में लिखा है कि कोरोना वायरस से पूरा विश्व संकट में है। आज नहीं तो कल हम इसपर भी जीत पा लेंगे। लेकिन, इस विजय के बाद कई चुनौतियां खड़ी होगी। ऐसे आपातकाल में स्कूल प्रबंधनों से अपील है कि वह इस आपदा को देखते हुए अगले तीन माह की फीस फीस कर दें। बड़ी आबादी को बड़े संकट से निपटने की ताकत मिलेगी।

जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. मुकेश कुमार सिंह ने सभी निजी स्कूल प्रबंधन से अभिभावकों पर फीस जमा करने के लिए दबाव न बनाने की अपील की है। डीआईओएस ने कहा कि पूरी दुनिया कोरोना महामारी से लड़ रही है। इन हालातों में मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए अभिभावकों को राहत देने के लिए कहा है। गौरतलब है कि लखनऊ पब्लिक स्कूल जैसे कई स्कूलों ने फीस जमा करने का नोटिस अभिभावकों को भेजा है, जिससे लोग परेशान हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper