3 Idiots के ‘फुनशुक वांगड़ू’ ने बताया कैसे भारत तोड़ सकता है चीन की रीढ़ की हड्डी, देखें Video

नई दिल्ली: चीन सालों से भारत के खिलाफ चालबाजी करता आया है। उसके धोखे की लंबी फेहरिस्त है। भारत की बढ़ती ताकत और सामरिक शक्ति चीन को कभी रास नहीं आई है। मोदी सरकार के कार्यकाल में भारत ने चीन से लगने वाली सीमा के करीब काफी तेजी से इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाया है। यही बात चीन को पच नहीं रही है, इसी की खीझ निकालने के लिए चीन लद्दाख में एक नहीं चार-चार जगहों पर हिंदुस्तान को आंख दिखाने की हिमाकत कर रहा है। इन दिनों लद्दाख में भारत और चीन के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। LAC पर चीन और भारत की सेना आमने सामने खड़ी है।

लद्दाख में रहने वाले प्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता और शिक्षाविद् सोनम वांगचुक कहते हैं कि लद्दाख में चीन की हरकतों को देखकर हर टाइम दिल जलता है, चीनी सेना हर साल 10-20 फुट अंदर आती जाती है और हमारी सेना तनाव नहीं बढ़ाने के लिए उसको एक तरह से नजरअंदाज करती जाती है लेकिन अब चीन को उसी की भाषा में जवाब देने का समय है। सोनम वांगचुक कहते हैं कि आम तौर ऐसे समय जब सीमा पर तनाव का माहौल होता है तो हम अपने घरों में ये सोच कर आराम से सो जाते है कि सेना जवाब देगी लेकिन इस बार चीन पर दोतरफा हमला करने की जरूरत है।

आमिर खान की हिट फिल्म- 3 इडियट्स के किरदार फुनशुक वांगड़ू से देश के घर-घर तक अपनी पहचान रखने वाले शिक्षाविद सोनम वांगचुक कहते हैं कि इस बार चीन को सेना बुलेट से और नागरिक वॉलेट पावर से दे जवाब दे। इसके लिए वह लोगों से चीनी उत्पादों के बहिष्कार करने की अपील करते है। सोनम कहते हैं कि अगर भारत के लोग चीन के समान खरीदने को बंद कर दें तो चीन की आर्थिक रीढ़ टूट जाएगी और वह घबराकर बातचीत के लिए आगे आएगा। आज हम चीन से हर साल पांच लाख करोड़ का सामान खरीदते है और इन्हीं पैसों से चीन अपने सैन्य सजो- समान गोला बारूद खरीदता है।

वह कहते है कि असल में चीन की तानाशाह सरकार इन दिनों अपने देश की जनता से डरी हुई है। वह कहते हैं कि आज कोरोना के बाद चीन में फैक्टरियां और एक्सपोर्ट बंद है और चीन में बेरोजगारी 20 प्रतिशत तक बढ़ चुकी है। इससे लोग नाराज है और चीन में तख्तापलट हो सकता है। इसलिए चीन पड़ोसियों से दुश्मनी कर अपनी जनता को अपने साथ जोड़ने में लगा हुआ है। वह कहते हैं कि चीन ऐसी हरकत पहले भी कर चुका है।

वांगचुक देश के 130 करोड़ लोगों से बायकॉट मेड इन चाइना मूवमेंट शुरु करने की अपील करते हुए कहते है कि चीन के सामानों का इतने बड़े पैमाने पर बायकॉट होने से चीन की अर्थव्यवस्था टूट जाए और वहां की जनता गुस्से में आकर ताख्ता पलट कर देगी। सोनम कहते हैं कि वह इस मुहिम को शुरु करने के लिए दो -तीन साल से सोच रहे थे लेकिन इस बार लद्दाख में चीन की हरकत देखकर उन्होंने इसे एक अभियान के तौर पर शुरु किया है। वह कहते हैं कि बायकॉट मेड इन चाइना अभियान भारत के लिए भी एक वरदान भी साबित होगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper