35 के बाद मां बनने जा रही हैं तो ध्यान में रखें ये 7 बातें

लखनऊ: लेट शादी करने या किसी अन्य प्रॉबल्मस के कारण कुछ महिलाएं 35 की उम्र के बाद मां बनती है। इसका कारण सेहत की जुड़ी परेशानियां भी हो सकती हैं। इस समय सही खान-पान या गर्भवती महिला का सही तरह से ध्यान न रखे के कारण औरत को कई सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। बढ़ती उम्र में प्रैग्नेंसी के दौरान रक्तचाप बढ़ने लगना, डायबिटीज, प्रीमैच्योर डिलवरी, मिसकैरेज, प्लेसेंटा के द्वारा गर्भाशय नली ब्लॉक होने जैसी समस्याएं होने की संभावना ज्यादा होती है। इसे समय अगर खुद का ध्यान ज्यादा रखा जाए तो डरने की कोई बात नहीं। आप भी अगर आप इस उम्र में मां बनने के बारे में सोच रहीं हैं, तो आज हम आपको कुछ एेसे तरीके बताएंगे जो बहुत फायदेमंद साबित हो सकते हैं। तो आइए जानते हैं इस समय किन-किन बातों का रखें ख्याल।

1. किसी तरह की गलत आदत की शिकार हैं तो इस समय धूम्रपान और शराब का सेवन न करें। गर्भावस्था के दौरान इस तरह के पदार्थ लेने से बच्चा और मां दोनों को नुक्सान होता है। इसके साथ ही एेसी जगहों पर भी न जाएं जहां धुआं आप तक पहुंच सकता हो।

2. इस दौरान आराम करना बहुत जरूरी होता है। पर्याप्त मात्रा में नींद जरूर लें। रात को सोने से पहले हैड और शौल्डर मसाज लेें। इससे आपको रात में अच्छी नींद आएगी। जिससे गर्भ में पल रहे बच्चे को भी आराम मिलेगा।

3. इस समय योगा या आसान करने से नॉर्मल डिलवरी होने का ज्यादा चान्स होता है लेकिन अगर आप पहली बार मां बन रहीं है तो डॉक्टर की सलाह से ही योगा करना शरू करें।

4. गर्भावस्था में खान-पान का ध्यान रखना बहुत जरूरी होता है। हर दो घंटे के बाद कुछ न कुछ खाते रहे। इस समय हरी सब्जियां, फल और प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ,विटामिन्स,मिनरल्स आदि की से भरपूर मात्रा वाले भोजन को आहार में शामिल करना जरूरी होता है।

5. प्रैग्नेंसी में लगातार एक जगह पर बैठे पहने से भी परेशानी हो सकती है। इस बात का ध्यान रखें कि ज्यादा देर तक बैठे न रहे। हर एक घंटे के बाद थोड़ा बहुत चलें। दिन में एक वक्त की सैर जरूर करें। एेसा करने से आपका ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहेगा।

6. आजकल बहुत से कोचींग सेंटर है जिन में बच्चे के पैदा होने से लेकर उसके बाद क्या- क्या होता है उसके बारे में बताया जाता है। एेसे कोचींग सेंटर में एडमिशन लें सकती है। यहां पर कुछ योग और मेडिटेशन करवाई जाती हैं। जिससे मां और होने वाला बच्चा दोनों ही हैल्दी रहते हैं।

7. गर्भावस्था में हॉर्मोंस में बदलाव होता रहता है। जिससे मूड का स्विंग होना आम बात है। इस समय किसी भी तरह का तनाव न लें। हर छोटी से छोटी बात भी अपने पति के साथ जरूर शेयर करें। इससे आपको तनाव कम करने में आसानी होगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
loading...
E-Paper