4 साल के मासूम ने साइकिल खरीदने के लिए जमा किए थे 971 रुपए, कोरोना से लड़ने के लिए कर दिया दान

देशभर में कोरोना का संकट छाया हुआ है और सरकार-प्रशासन इसी कोशिश में लगी है की इस बीमारी की चपेट में आए लोग जल्दी ठीक हो जाए। इस प्रक्रिया में कहीं पैसे की कमी ना आए इसलिए पीएम के केयर फंड में लोग पैसे भी जमा कर रहे हैं। हाल ही में आंध्र प्रदेश में मदद के लिए आगे आए छोटे से बच्चे की पहल देखकर हर किसी को उस पर नाज है। आंध प्रदेश के विजयवाड़ा में 4 साल के एक बच्चे ने अपने गुल्लक में रखे पैसे सीएम राहत कोष में जमा किए हैं। उसने ये पैसे अपनी एक खास चीज लेने के लिए जमा किए थे, लेकिन अब इन पैसों से वो लोगों की और सरकार की मदद करना चाहता है।

विजयवाड़ा में एक 4 साल के बच्चे ने पूरे 971 रुपए मुख्यमंत्री राहत कोष में दान दिए हैं। बच्चा मंगलवार को ही अपने माता पिता के साथ तोडपल्ली में वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के कार्यालय जाकर सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री पेरनी वेंकटरामैया को अपने गुल्लक के पैसे दिए। इस बच्चे का नाम हेमंत हैं। बच्चे ने ये भी बताया की ये राशि उसने अपनी साइकिल खरीदने के लिए जमा किए थे।

हेमंत सीएम जगमोहन रेड्डी से मिलना चाहता था। उसने कहा की जो लोग कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रहे हैं वो उनकी इस पैसे से कुछ मदद करना चाहता है। मंत्री वेंकटरामैया ने हेमंत से वादा भी किया की जो उसने राशि दी है वो उसे खुद जाकर सीएम को सौपेंगे। साइकिल खरीदने की चाह रखने वाले प्यारे से बच्चे का जज्बा देखकर मंत्री वेंकटरामैया भी काफी खुश हुए।

महामारी के इस दौर में जहां नफरत उगलने वाले लोग मौजूद हैं तो वहीं ऐसे लोग भी देश में हैं जो किसी भी कीमत पर देश की इस ल़ड़ाई को कमजोर नहीं पड़ने देंगे। ऐसे विकट समस्या के समय बच्चे ने जो जज्बा दिखाया है, उससे सूचना मंत्री खुद प्रभावित है। उन्होंने बताया की बच्चे ने नई साइकिल के लिए ये पैसे इक्ट्ठे किए थे, लेकिन अपनी इच्छा से ये पैसे उसने लोगों की मदद के लिए जमा कर दिए। ऐसे में अब हेमंत को वो खुद साइकिल खरीद कर देंगे।

बता दें की कोरोना का कहर आंध्र प्रदेश में भी पहुंच चुका है और पहली मौत की घोषणा भी हो चुकी है। कोरोना वायरस से आंध्र प्रदेश में करीब 4 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। प्रदेश में इस वायरस से पहली मौत 30 मार्च के विजयवाड़ा में हुई थी। पीड़ित की उम्र 55 साल थी। आंध्र प्रदेश में अब तक 304 लोग इस महामारी से संक्रमित हो चुके हैं।

केंद्र सरकार और राज्य सरकार मिलकर इस महामारी से लड़ने की कोशिशों में जुटी हुई है। वहीं बहुत से स्टार्स और दिग्गज हस्तियों ने पैसे के जरिए मदद भी की है। यहां तक की खुद पीएम मोदी, राष्ट्रपति कोविंद और सभी सांसदों ने फैसला लिया है की वो अपने एक साल तक के वेतन में 30 प्रतिशत की कटौती भी करेंगे। साथ ही सांसद निधि को भी खत्म कर दिया गया है जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों की मदद हो सके। कोरोना महामारी के इस दौर में पूरा देश एक साथ खड़ा होकर ये लड़ाई लड़ रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper