5 अगस्त से लेकर अब तक 40 पाकिस्तानी आतंकियों की घुसपैठ, अलर्ट पर घाटी में सुरक्षा बल

जम्मू कश्मीर: जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 में बदलाव के बाद घाटी में पहले से ही अलर्ट सुरक्षा बल अब और चौकन्नी हो गई है. इंटेलिजेंस सूत्रों के मुताबिक घाटी में हाल के दिनों में कई पाकिस्तानी आतंकी देखे गए हैं. सूत्रों के मुताबिक पांच अगस्त से लेकर अब तक 40 पाकिस्तानी आतंकी घुसपैठ कर चुके हैं. पिछले 40 दिनों में हुई ये घुसपैठ अब तक की सबसे बड़ी घुसपैठ है. इंटेलिजेंस एजेंसियों की मानें तो ये सभी आतंकी जैश ए मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े हुए हैं.

खबर यह भी है कि इन आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल हैं और वो किसी बड़े हमले की फ़िराक में हैं. पाकिस्तान और आतंकियों को भेजने की फ़िराक़ में लगा हुआ है. इसी वजह से जम्मू-कश्मीर की घाटी में सुरक्षा और चौकस कर दी गई है. बता दें कि इंडियन आर्मी (Indian Army) ने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के केरन सेक्टर (Keran sector) में पाकिस्तान बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) के एक दल द्वारा घुसपैठ की नाकाम कोशिश का एक वीडियो शेयर किया था.

भारतीय सेना द्वारा शेयर किए गए तीन अगस्त के इस वीडियो में कम से कम 4 शव देखे जा सकते हैं. पाक सेना ने इनके शव लेने से भी इनकार दिया था, जबकि सेना ने इनके पाक सैनिक होने के सबूत भी पेश किए थे. मारे गए घुसपैठियों में आतंकियों के साथ-साथ पाकिस्तान की सेना के जवान भी शामिल थे. सेना सूत्रों ने कहा है कि ये पाकिस्तानी घुसपैठिए थे. सेना ने पूर्व में कहा था कि पांच से सात पाकिस्तानी घुसपैठिए तब मारे गए थे, जब उसने पाकिस्तानी बैट दल के प्रयास को नाकाम कर दिया था. पाकिस्तान बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) में आम तौर पर पाकिस्तानी सेना के विशेष बल के कर्मी और आतंकी होते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper