मुस्लिम महिला ने बेटे संग रचा ली शादी, ये तस्वीर देख फूटा लोगो का गुस्सा, लेकिन सच्चाई जान गुस्सा हो गया ठंडा

इंटरनेट पर एक मुस्लिम महिला की तस्वीर सामने आई है, जिसमे एक महिला एक नाबालिग बच्चे संग नजर आ रही है। दोनों के गले में फूल-माला डली हुई हैं। इस तस्वीर को लेकर दवा किया गया है कि, मां ने अपने ही सगे बेटे संग ब्याह रचा लिया है। इस तस्वीर पर लोगों का गुस्सा फूट रहा है। हालांकि तस्वीर से जुड़ी सच्चाई क्या है, ये आज हम आपको बता देंगे। फोटो के साथ कैप्शन देख लोग हैरान हैं। कैसे कोई मां अपने ही बेटे के साथ शादी कर सकती है।

पूजा शर्मा नाम की ट्विटर यूजर ने इस तस्वीर को पोस्ट किया और लिखा, “सऊदी की इस मुस्लिम महिला ने पति के इन्तेकाल के बाद अपने ही सगे बेटे से किया निकाह आखिर यही तो है इस्लाम” पोस्ट में तस्वीर के साथ दावा किया जा रहा है कि, सऊदी अरब में ये चौंकाने वाली घटना घटित हुई है जहां एक मां ने पति की मौत के बाद अपने ही सगे बेटे संग शादी की है।

चलिए हम आपको इसकी सच्चाई बताते हैं, आखिर क्यों लोग एक मां-बेटे के पवित्र रिश्ते पर कलंक लगा रहे हैं। दरअसल ये तस्वीर मां-बेटे की ही है लेकिन बच्चे ने मां के संग शादी नहीं रचाई है बल्कि उसने कुरान शरीफ का पाठ पूरा किया है। फेसबुक पर हमें तस्वीर से जुड़ी और पोस्ट मिलीं। वहीं गूगल रिवर्स इमेज सर्च में हमने पाया कि, फेसबुक पर 31 जनवरी, 2020 को पोस्ट किए गए फोटो के साथ लिखा था कि , “आज मेरे बेटे ने कुरान का पाठ पूरा कर लिया बच्चे को बधाई देकर मैसेज शेयर करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper