8 घंटे में कैंसर ठीक करने का दावा

न्यूयार्क: अमेरिका में हुए एक शोध में पाया गया है कि कैंसर जैसी गंभीर बीमारी को भी पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है. कैलीफोर्निया यूनिवर्सिटी के मेडिकल फिजिक्‍स एवं साइकोलॉतजी के सीनियर प्रोफेसर डॉ. हर्डिन बी जॉन्‍स ने बताया कि करीब 25 वर्षों तक चले शोध में सामने आया है कि अंगूर के बीज से निकलने वाला रस इस बीमारी इस गंभीर बिमारी को 48 घंटे में ख़त्म कर सकता है. शोध में पाया गया है कि इस रस का प्रभाव इतनी तेजी से होता है कि करीब 48 घंटों के भीतर ही हमारे सामने नतीजे आने शुरू हो गए थे.

कैंसर एक गंभीर बीमारी है जिसका इलाज इतना महंगा है कि हर किसी के लिए यह संभव नहीं है. कैंसर के इलाज में होने वाली कीमौथैरेपी भी कई बार मरीज की जान ले लेती है. भोपाल के प्राइवेट हॉस्‍पिटल के चिकित्‍सक डॉ. नाजिम अली ने बताया कि इस शोध के बारे में जो चर्चाएं हैं उसमें काफी सच्‍चाई है. अंगूर में पर्याप्‍त मात्रा में कैलोरी, फाइबर और विटामिन सी और ई पाया जाता है. इसमें ग्‍लूकोज, मैग्‍नीशियम और साइट्रिक एसिड जैसे कई पोषक तत्‍व मौजूद रहते हैं.

इसका सेवन करने से कैंसर, किडनी और पीलिया जैसी बीमारी को बचा जा सकता है.वैज्ञानिकों ने बताया कि अंगूर के बीजों से निकला रस रक्‍त कैंसर सहित कई प्रकार के कैंसर के लिए काफी फायदेमंद है. अंगूर के बीज में पाया जाने वाला जेएनके प्रोटीन बिना किसी साइड इफेक्‍ट के कैंसर कोशिकाओं को करीब 76 प्रतिशत तक जड़ से खत्‍म किया जा सकता है. अगर चिकित्‍सकीय सलाह के अनुसार इसका नियमित सेवन करने से 48 घंटों के भीतर मरीज की सेहत में सुधार देखा जा सकता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper