800 रूपए कमाने वाली नीता अंबानी ने शादी से पहले मुकेश अंबानी से रखी थी ये शर्त

मुंबई: मुकेश अंबानी के बारे में तो इतना तो सभी जानते हैं कि वह देश के सबसे अमीर आदमी हैं परंतु उनकी पत्नी से जुड़ी ये बातें शायद कोई नहीं जानता होगा कि 800 रुपये प्रति माह कमाने वाली नीता कैसे बनी मुकेश अंबानी की वाइफ ? इस बात को सुनकर आप यकीन नहीं कर पायेंगे परंतु यह बात बिल्कुल सच है, तो आइये जानतें मुकेश अंबानी की पत्नी के बारें में कुछ दिलचस्प बातें.

दरअसल नीता अंबानी देश के सबसे अमीर घराने की बहू बनने से पहले वह स्कूल के बच्चों को पढ़ाती थी जहा उनको 800 रुपये मिलते थे, नीता अंबानी का कहना है कि उनको बच्चो को पढ़ाने का बहुत शौक था जिसके कारण उन्होनें मुकेश अंबानी से शादी करने के बाद भी स्कूल में जॉब करने की शर्त रखी थी.इस बात पर मुकेश राजी हो गए और उन्हें पढ़ाने की परमिशन दे दी थी.

नीता अंबानी की सबसे हैरान कर देने वाली बात यह है कि वह सबसे अमीर घराने की बहू होते हुए भी वह एक प्राइवेट स्कूल में जॉब करती थी, एक इंटरव्यू में नीता ने बताया कि उस स्कूल की प्रिंसिपल नहीं जानती थी कि वह अंबानी की वाइफ हैं.

एक बार की बात है जब उनके स्कूल की प्रिंसिपल ने 1987 वर्ल्ड कप की दो टिकट लाकर दी और स्कूल की टीचर्स से बोला कि कोई भी दो टीचर्स इस मैच को देखने जा सकते हैं,परंतु इन टिकट को लेने के लिए नीता ने मना कर दिया था.कहा जाता है उस दौरान वर्ल्ड कप का जो स्पाॅन्सर था वह रिलायंस ग्रुप था, लेकिन जब स्कूल की प्रिंसिपल ने वहां जाकर देखा कि नीता प्रेसिडेंट बॉक्स में वीआईपी के साथ बैठी हुई है तो हैरान वह रह गई थी.

स्कूल की प्रिंसिपल ने तभी नीता अंबानी के पास आकर पूछा कि आप यहां क्या कर रही हो, तो तब उनके स्कूल की प्रिंसिपल को पता चला कि हमारे स्कूल में पढ़ाने वाली नीता देश के सबसे अमीर घराने की बहू हैं, लेकिन उसके कुछ दिनों बाद ही नीता अंबानी ने स्कूल पढ़ाना छोड दिया था और फिर वह अपने खुद के फैमिली बिजनेस पर ध्यान देने लगी थी.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper