99 प्रतिशत लोग नहीं जानते ‘मोगली’ का असली नाम, इससे जुड़ी रोचक बातें हैरान कर देगी

जिन लोगो को ‘द जंगल बुक’ के बारे में नहीं पता उन्हें बता दे कि ये एक ऐसे इंसानी बच्चे की कहानी हैं जिसका जन्म जंगल में हुआ था और जो अपने माता पिता को खो देता हैं. इसके बाद इस छोटे से बच्चे को जंगल के जानवर ही पाल – पोस कर बड़ा करते हैं. ये लोकप्रिय कहानी सबसे पहले 1894 में शॉर्ट स्टोरीज के रूप में पब्लिश हुई थी. इसे 1865 में भारत में जन्में इंग्लिश जर्नलिस्ट और राइटर रुडयार्ड किपलिंग ने लिखा था. रुडयार्ड द्वारा लिखी गई इस कहानी में चित्र उनके पिता ने बनाए थे.

पहली फिल्म

रुडयार्ड द्वारा लिखी इस कहानी पर वॉल्ट डिजनी ने सबसे पहली फिल्म ‘द जंगल बुक’ बनाई थी. ये फिल्म साल 1967 में रिलीज हुई थी. ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट साबित हुई थी. बताते दे कि ये वॉल्ट डिजनी की अंतिम फिल्म थी जिसमे उन्होंने काम किया था. (मशहूर ‘डिजनी’ ब्रांड वॉल्ट डिजनी नाम के शख्स की ही देन हैं.)

क्या हैं मोगली का असली नाम?
रुडयार्ड किपलिंग के अनुसार डिज्नी ने जब ये फिल्म बनाई थी तो उन्होंने द जंगल बुक के कई किरदारों के नाम गलत तरीके से बोले थे. जैसे कि मोगली का नाम मोगली नहीं बल्कि ‘माउगली’ था. इसी तरह इसी शो के अन्य किरदार जैसे सांप का नाम ‘का’ नहीं बल्कि ‘कार’ था. इसके अलावा भालू ‘बल्लू’ का नाम ‘बरलू’ था.

मोगली पर बनी लेटेस्ट फ़िल्में

साल 2016 में ‘द जंगल बुक’ की स्टोरी को नई और आधुनिक 3डी तकनीक के साथ रिलीज किया गया था. इस फिल्म के विजुएल इफेक्ट्स इतने जोरदार और रियल थे कि इसे ऑस्कर अवॉर्ड तक मिला था. इस फिल्म में भारतीय मूल के अमेरिकी नील सेठी ने मोगली की भूमिका निभाई थी. इसके अलावा पॉपुलर वेबसीरिज प्लेटफ़ार्म नेटफ्लिक्स पर भी ‘मोगली: लेजेंड ऑफ दि जंगल’ नाम की एक फिल्म रिलीज हुई थी. इसमें इस कहानी को डार्क टच दिया गया था.

दूरदर्शन पर आने वाला मोगली हैं जापानी
भारत में जंगल बुक की जो कार्टून वेब सीरिज दूरदर्शन पर प्रसारित होती हैं वो असल में एक जापानी टीवी सीरीज है. इसे जापान में ही बनाया गया हैं. इस सीरिज की मूल भाषा भी जापानी हैं लेकिन उसे हिंदी में डब कर दूरदर्शन पर दिखाया गया था.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper