स्वाद में कड़वा लेकिन औषधीय गुणों से भरपूर है करेला , जानिए किन बीमारियों में है फायदेमंद

नई दिल्ली: करेले पर थोड़ा सफेद नमक लगाकर आधे घंटे के लिए रख दें। उसकेबाद करेले को अच्छी तरह धोकर मिक्सी में पीस करके डालें, साथ ही संतरे का रस भी डाल दें। अच्छी तरह मिक्सी में ग्राइंड करने के बाद गिलास में जूस निकाल लें। उसमें नींबू का रस, काला नमक और इमली का पेस्ट डालकर अच्छे से हिलाएं। इस जूस का सेवन सुबह खाली पेट करें।

करेले में शरीर की एक्स्ट्रा फैट को कम करने के गुण मौजूद हैं। करेला शरीर में इंसुलिन को एक्टिव करता है, जिससे शरीर में बनने वाली शुगर फैट का रूप नहीं ले पाती। आप चाहे इसे डायरेक्ट खाएं या फिर इसका जूस बनाकर पिएं, यह आपके शरीर को फायदा ही करेगा।

करेले में मौजूद बीटा-कैरोटिन आंखों के लिए लाभदायक माना जाता है। टी.वी. स्क्रीन पर काम करने वाले व्यक्ति को हफ्ते में 2 बार करेले का सेवन या फिर इसका जूस पीना चाहिए। बच्चों को भी करेला जरूर खिलाएं, इससे उनकी स्मरण शक्ति और आंखें दोनों स्ट्रांग होंगी। करेले का जूस आपको यंग दिखाने में भी मदद करता है।

जिन शुगर पेशेंट्स को इंसुलिन लगाने की आवश्यकता पड़ती है, उन्हें तो तुरंत करेले का जूस पीना शुरू कर देना चाहिए। करेला शरीर में कुदरती तौर पर इंसुलिना का निर्माण करता है जिस वजह से व्यक्ति की शुगर कदरती तौर पर नार्मल रेंज पर आ जाती है।

करेला खाने या फिर इसका जूस पीने से पेट की समस्याएं, जैसेे कि पेट में गैस, अपच, दस्त और मुंह के छालों जैसी समस्या हल होती है। पेट के साथ-साथ करेला त्वचा को भी फायदा करता है। करेला खाने या फिर इसका जूस पीने से चेहरे पर मुहांसों की परेशानी नहीं होती।

करेले के ऐंटी-माइक्रोबियल और ऐंटी-बैक्टीरियल गुण खून साफ करने में मदद करते हैं। जिस वजह से स्किन संबंधित परेशानियों से आप बचे रहते हैं साथ ही यह आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाने में मदद करता है। एग्जिमा और सोरायसिस जैसी बीमारियों में भी करेला खाने या फिर इसका जूस पीने से लाभ मिलता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper