DSP देविंदर सिंह के आतंकी कनेक्शन पर गर्माई राजनीति, कांग्रेस का सवाल, BJP का पलटवार

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम से गिरफ्तार किए गए डीएसपी देविंदर सिंह के आतंकी कनेक्शन पर देश में राजनीति गर्म हो गई है। मंगलवार को पहले कांग्रेस ने देविन्दर सिंह के बहाने केंद्र सरकार पर निशाना साधा और सुरक्षा पर सवाल खड़े किए। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में केंद्र सरकार से पूछा कि देविंदर सिंह कौन है? 2001 में संसद पर हुए हमले में उसकी क्या भूमिका थी, पुलवामा में हुए आतंकी हमले में उसकी क्या भूमिका थी, जहां वो डीएसपी के पद पर तैनात था। कांग्रेस नेता ने पूछा है कि क्या वो अपनी कार में हिजबुल के आतंकियों को ले जा रहा था या वो पूरी साजिश का केवल एक मोहरा है और इसका मुख्य साजिशकर्ता कहीं और है? ये षड्यंत्र क्या था। देश के गृह मंत्री को इस मामले की तहकीकात करनी चाहिए और साफ करना चाहिए।

पुलवामा हमले पर कांग्रेस ने केंद्र से पूछा कि हमले में हमारे 42 जवान शहीद हुए थे। वो आरडीएक्स कहां से कौन लेकर आया? ये इतनी सुरक्षा के बाद कैसे हो गया? जो कार सेना के काफिले में नहीं आ सकती थी वो कार कहां से आ गई? सुरजेवाला ने आरोपी डीएसपी को मेडल दिए जाने पर भी सवाल उठाया। कांग्रेस नेता ने कहा कि एक तरफ आप देविंदर सिंह को पुलिस मेडल दे रहे हैं। दूसरी तरफ देविंदर आतंकियों के साथ गिरफ्तार होता है। सरकार कह रही है कि उसको इसकी एवज में 12 लाख रुपये मिलने थे। ये पूरी कहानी संशय पैदा करती है। इसकी जांच होनी चाहिए?

लोकसभा में कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने देविंदर सिंह को लेकर कहा कि अगर इत्तेफाक से डीएसपी का नाम सिंह की जगह खान होता तो आरएसएस की ट्रोल रेजीमेंट की प्रतिक्रिया ज्यादा तीखी और मुखर होती। मजहब, रंग और कर्म को किनारे रखते हुए देश के ऐसे दुश्मनों की एकसुर में आलोचना की जानी चाहिए। अब सवाल यह पैदा होता है कि पुलवामा हमले के पीछे के असली गुनाहगार कौन हैं? इस मामले पर नए सिरे से जांच की जरूरत है।

कांग्रेस की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि इसी देश की पुलिस ने देविंदर सिंह को गिरफ्तार किया है, कानून अपना काम रहा है। कांग्रेस ने वही किया जिसमें वह सक्षम है, कांग्रेस ने एक बार फिर भारत पर हमला किया है और पाकिस्तान का पक्ष लिया है। कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने इस मामले में धर्म को घुसाया, हिंदू आतंकवाद का शब्द भी कांग्रेस ने ही इजाद किया था। संबित पात्रा ने कहा कि कांग्रेस लंबे समय से ‘हिंदू आतंकवाद’ की बात करती रही है। कांग्रेस हिंदुओं को आतंकवादी सिद्ध करने का प्रयास कर रही है और भारत को हिंदुओं से खतरा बता रही है।

भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने आज जिस तरह का व्यवहार दिखाया वह लोकतांत्रिक सर्जिकल स्ट्राइक का हकदार है। वे रोज पाकिस्तान को खुश कर रहे हैं। कांग्रेस के नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी और मीडिया प्रमुख रणदीप सुरजेवाला के बयान की भाजपा निंदा करती है। सोनिया गांधी के कहने पर दिग्विजय सिंह ने भगवा आतंक शब्द गढ़ा था। इस पूरी प्रक्रिया में कांग्रेस के अधीर रंजन ने आव देखा न ताव और मिनटों के अंदर धर्म ढूंढ लिया। आतंकवाद पर धर्म की राजनीति करना कांग्रेस की संस्कृति है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर हमला करते हुए पात्रा ने कहा कि टुकड़े-टुकड़े गैंग के साथ राहुल गांधी खड़े होते रहे हैं, कांग्रेस की ओर से इस मसले पर राजनीति की जा रही है। उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले को लेकर कांग्रेस अलग-अलग सवाल कर रही है। क्या कांग्रेस को इस बात पर शक है कि पुलवामा आतंकी पाकिस्तान ने नहीं किया था? अगर उन्हें संशय है तो देश के सामने कहें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper