GAY डेटिंग ऐप से फंसाए 150 लोग, फिर किया ऐसा काम, दिल्ली-NCR भी शामिल

नई दिल्ली : GAY डेटिंग ऐप को लेकर हाल ही में एक बड़ा खुलासा हुआ है। जिसमें करीबन 150 मामले सामने आए है। दरअसल, GAY डेटिंग ऐप का खुलासा गुरुग्राम पुलिस द्वारा किया गया है। बताया जा रहा है कि एनसीआर की ज्यादातर कॉर्पोरेट कंपनियों के कम से कम से 50 एक्जिक्यूटिव्स शामिल है जिनमें सीईओ भी शामिल हैं को समलैंगिक डेटिंग ऐप के जरिए ब्लैकमेल किए जाने के मामले सामने आए हैं।

पुलिस ने बताया कि ऐसे करीब 150 मामलों में से 50 ऐसे लोग हैं जो किसी ना किसी कॉर्पोरेट कंपनी के सीईओ या बड़े पद संभाले हुए हैं। ख़बरों के मुताबिक, इस ऐप के जरिए चैटिंग के माध्य से लोगों को अपने झांसे में फंसाया जाता है। डेटिंग के लिए उन्हें गुरुग्राम में वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे और साउथ पेरिफेरल रोड में अलग-अलग जगहों पर बुलाया जाता है। इस डेटिंग के दौरान गैंग के मेंबर्स द्वारा लूट, नग्न तस्वीरें उतारने और पिटाई की वारदात भी सामने आई है।

पुलिस ने बताया कि 6 पुरुषों द्वारा चलाए जा रहे रैकेट का नवंबर में पर्दाफाश किया गया था, जब एक पीड़ित द्वारा शिकायत के बाद दक्षिणी पेरिफेरल रोड पर सदस्यों में से एक को मिलने के लिए भेजा गया था। पुलिस ने कहा कि 6 लोगों में से चार को मौके पर गिरफ्तार किया गया और दो अभी भी बड़े पैमाने पर सक्रिय हैं। पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकील ने कहा कि उन्होंने पिछले 3 महीनों में 150 पीड़ितों में से कम से कम 80 को ट्रैक कर लिया है और जांच अभी भी जारी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper